17वीं लोकसभा के पहले संसदीय सत्र में PM मोदी ये रिकार्ड बनाने वाले हैं…

इस सत्र में मोदी सरकार एक रिकार्ड और बनाने की तैयारी कर रही है. सरकार की दूसरी बार संसद का मौजूदा सत्र बढ़ाने की योजना है. अभी इसकी घोषणा होना बाकी है.

नई दिल्ली: हर रिकार्ड को पीछे छोड़कर कामकाज का नया रिकार्ड बनाने में मोदी सरकार कोई कसर नहीं छोड़ रही है. केंद्र सरकार ने 17वीं लोकसभा में जहां अब रिकॉर्ड विधेयकों को दोनों सदनों में मंजूरी दिलाने में सफलता पाई है, वहीं सूचना का अधिकार, तीन तलाक, विधिविरुद्ध निवारण (संशोधन) विधेयक जैसे जटिल विधेयकों को पारित कराने में सत्तापक्ष को सफलता मिली है.

इस सत्र में मोदी सरकार एक रिकार्ड और बनाने की तैयारी कर रही है. सरकार की दूसरी बार संसद का मौजूदा सत्र बढ़ाने की योजना है. अभी इसकी घोषणा होना बाकी है.

14 अगस्त तक जारी रह सकता है मौजूदा सत्र

संसद का मौजूदा सत्र पहले 27 जुलाई तक प्रस्तावित था, लेकिन इसे बढ़ाकर 7 अगस्त तक किया गया. लेकिन अब सरकार इसे फिर विस्तार देने वाली है. एक केंद्रीय मंत्री कार्यालय के सूत्र के मुताबिक सदन के वर्तमान सत्र को 14 अगस्त तक विस्तार देने की योजना पर विचार हो रहा है. सूत्रों के मुताबिक दो दिन पहले ही केंद्र सरकार के मंत्रियों को अनौपचारिक (मौखिक) रूप से 9 अगस्त तक जारी रखने की सूचना दे दी गई है.

लोकसभा में कामकाज का बनेगा रिकार्ड

इस तरह से संसद का सत्र विस्तार भी अपने आप में रिकार्ड जैसा होगा. इसके अलावा देश के संसदीय इतिहास में यह सत्र भी अनोखा साबित होने वाला है. संसद के इस सत्र में केंद्र सरकार द्वारा रिकार्ड संख्या में बिल पेश किए और उन्हें मंजूरी दी गई है.

बतौर उदाहरण 2 अगस्त को राज्यसभा ने एक दिन में ही तीन विधेयकों को मंजूरी दी है. इतना ही नहीं नई लोकसभा के गठन के बाद से अब तक एक भी दिन लोकसभा की कार्यवाही स्थगित नहीं हुई है.

लोकसभा ने 30 विधेयकों को पारित कर दिया

लोकसभा में इस सत्र में कुल 34 विधेयक आए थे. 31 लोकसभा में पेश किए गए थे और तीन राज्यसभा में. इनमें से लोकसभा ने 30 विधेयकों को पारित कर दिया है. केवल चार बिल बचे हैं. हालांकि राज्यसभा में कार्यवाही बाधित हुई है और राज्यसभा स्थगित हुई है, लेकिन लोकसभा ने रिकार्ड कामकाज किया है. लोकसभा सचिवालय का कहना है इतनी संख्या में कभी विधेयकों को मंजूरी नहीं मिल पाई.

ये भी पढ़ें- ‘अभ्‍यास वर्ग’ में पीएम मोदी और अमित शाह ने लगाई BJP सांसदों की क्‍लास, पढ़ें क्‍या समझाया

ये भी पढ़ें- हमें कोई दिक्कत नहीं, आदित्य ठाकरे को डिप्टी CM पद देने के लिए हैं तैयार: देवेंद्र फणनवीस