40 लाख नगद, पांच एकड़ जमीन, 8 ब्लैंक चेक की रिश्वत, तेलंगाना में एडिश्नल कलेक्टर समेत पांच गिरफ्तार

तेलंगाना (telangana) में रिश्वत लेते हुए एडिश्न कलेक्टर (Additional Collector) समेत पांच लोगों की एसीबी ने गिरफ्तार की है. एसीबी ने 1 करोड़ 12 लाख रुपए की रिश्वत मामले में ये गिरफ्तारियां की हैं.

प्रतीकात्मक फोटो

रिश्वत मामले में एसीबी (ACB) ने तेलंगाना में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें मेदक के एडिश्नल कलेक्टर के साथ नारसापुर के आरडीओ, चिल्पीचेड़ के एमआरओ समेत और दो लोगों को गिरफ्तार किया है.

तेलंगाना (Telangana) के मेदक जिले में लिंगा मूर्ति के शिकायत के अनुसार एसीबी ने 1 करोड़ 12 लाख रुपए रिश्वत मामले में मेदक के एडिश्नल कलेक्टर गड्डम नागेश, नारसापुर के रेवेन्यु डिविजनल ऑफिसर (आरडीओ) अरुणा रेड्डी, चिल्पीचेड़ के तहसीलदार अब्दुल सत्तार, मेदक के सर्वे एंड लैंड रिकॉर्ड विभाग के जूनियर असिस्टेंट मोहम्मद वसीम अहमद और एक प्राइवेट व्यक्ति जीवन गौड़ को गिरफ्तार किया।

बता दें कि गड्डम नागेश ने लिंगा मूर्ति के 112 एकड़ की जमीन की रजिस्ट्रेशन के लिए एनओसी दिलाने के लिए 1 लाख प्रति एकड़ के हिसाब से 1 करोड़ 12 लाख रुपए रिश्वत की मांग की थी.

इसमें 40 लाख नगद और बाकि के 72 लाख की नगदी के बदले 5 एकड़ जमीन अपने नाम और 8 साइन किए हुए ब्लैंक चेक ले लिए थे.

एसीबी ने नागेश, अरुणा, सत्तार, वासीम, जीवन के दफ्तरों और घरों में छापा मारकर 8 ब्लेंक चेक के साथ जमीन के कागज, 28 लाख रुपए नगद और 500 ग्राम सोना जब्त किया है. सभी को गिरफ्तार कर जज के सामने पेश किया गया है.

वहीं दूसरी ओर तेलंगाना में ही एसीबी ने बुधवार को रिश्वत लेते हुए एक और तहसीलदार को गिरफ्तार किया. तहसीलदार के पास एक करोड़ रुपए कैश बरामद हुआ. पता चला कि दंपती ने सोची समझी साजिश के तहत एसीबी को बरगलाने का काम किया था.

एसीबी के अधिकारियों ने जब तहसीलदार की पत्नी से पूछताछ की तो उसने बताया कि उसका तहसीलदार से तलाक हो चुका है. हालांकि वो इस बारे में कोई सबूत या कागजात नहीं पेश कर सकी. एसीबी के अधिकारियों ने बताया कि तलाक का इस्तेमाल कभी कभी भ्रष्ट अधिकारियों की तरफ से आय से अधिक संपत्ति के मामलों में आरोपियों से जुड़ी कम संपत्ति दिखाने के लिए किया जाता है.

Related Posts