अब खान-पान का सामान बेचेगी फ्लिपकार्ट, इस कंपनी से मिल सकती है चुनौती

उन्होंने कहा कि इससे हम देश के करोड़ों उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण और कम पैसों में खाद्यान्न उपलब्ध कराने और किसानों की आय कई गुणा बढ़ाने में मदद कर रहे हैं.

वालमार्ट समूह की कंपनी फ्लिपकार्ट जल्द ही फार्मर मार्ट नाम से एक नया वेंचर शुरू करने जा रही है. इस वेंचर के ज़रिए फ्लिपकार्ट खाने-पीने के सामान की बिक्री शुरू करेगा. बता दें कि हर साल खान पान के सामान पर उपभोक्ता 500 डॉलर बिलियन रुपये खर्च करते हैं.

शुरुआत में सेल की ऑनलाइन सुविधा मिलेगी लेकिन बाद में स्टोर लगाकर सामानों की बिक्री की जाएगी. इस वेंचर पर कंपनी 1,845 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है.

फ्लिपकार्ट समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कल्याण कृष्णमूर्ति ने एक बयान में कहा, ‘कंपनी सरकार की घरेलू स्तर पर विनिर्मित खाद्यान्न उत्पादों के खुदरा कारोबार में 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश नीति के अनुरूप अनिवार्य लाइसेंसों के लिए आवेदन कर रही है.’

उन्होंने कहा कि यह एक नयी पंजीकृत कंपनी ‘फ्लिपकार्ट फार्मर मार्ट’ है. यह देश में खाद्यान्न के खुदरा कारोबार पर ध्यान देगी. यह देश में खाद्यान्न प्रसंस्करण उद्योग को बढ़ावा देने के साथ-साथ भारतीय कृषि को आगे बढ़ाने के कंपनी के प्रयासों का अहम हिस्सा है.

कृष्णमूर्ति ने कहा कि इसके लिए हम पहले ही सभी आंतरिक अनुमतियां हासिल कर चुके हैं. हम स्थानीय कृषि और आपूर्ति श्रृंखला क्षेत्र में अच्छे से निवेश करने को लेकर आशान्वित हैं. हम लाखों छोटे किसानों, कृषि उत्पादक संगठनों, खाद्यान्न प्रसंस्करण उद्योग के साथ काम कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि इससे हम देश के करोड़ों उपभोक्ताओं को गुणवत्तापूर्ण और कम पैसों में खाद्यान्न उपलब्ध कराने और किसानों की आय कई गुणा बढ़ाने में मदद कर रहे हैं.

कंपनी ने नए उद्यम पर निवेश से जुड़ी जानकारी नहीं दी है. फ्लिपकार्ट की प्रतिद्वंदी अमेजन को भी 2017 में देश में खाद्यान्न उत्पादों के अपने खुदरा कारोबार के प्रस्ताव के लिए 50 करोड़ डॉलर के निवेश की अनुमति मिल चुकी है.