यूपी सीएम पर आपत्तिजनक ट्वीट कर फंसे कांग्रेस नेता पंकज पुनिया, करनाल से गिरफ्तार

कांग्रेस नेता पंकज पुनिया (Pankaj Punia) को सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी के मामले में हरियाणा के करनाल से गिरफ्तार कर लिया गया है. उन पर लखनऊ के हजरतगंज थाना और नोएडा में आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था.

  • TV9.com
  • Publish Date - 11:23 am, Thu, 21 May 20
पुलिस प्रतीकात्मक तस्वीर
पुलिस प्रतीकात्मक तस्वीर

कांग्रेस नेता पंकज पुनिया (Pankaj Punia) को सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्हें शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा. इससे पहले उत्तर प्रदेश पुलिस ने हरियाणा कांग्रेस के नेता पंकज पुनिया के खिलाफ लोगों की धार्मिक भावनाओं को नुकसान पहुंचाने और सोशल मीडिया पोस्ट के ज़रिए माहौल को ख़राब करने के संबंध में मामला दर्ज किया था.

UP Cyber Cell ने दर्ज की एफआईआर

यूपी पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने न्यूज़ एजेंसी को बताया कि ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के सदस्य पुनिया के खिलाफ दो समुदायों को बीच विवाद पैदा करने (153 A), लोगों की भावनाएं भड़काने (295 A), सार्वजनिक हरकत (502-2) समेत आईटी एक्ट 2008 की कई अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. उनके आपत्तिजनक ट्वीट की वज़ह से लखनऊ (Lucknow) के हज़रतगंज थाने में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

नोएडा पुलिस ने भी दर्ज किया मामला

वहीं नोएडा पुलिस ने भी उनके खिलाफ आईटी एक्ट सहित तमाम धाराओं में मुकदमा कायम किया है. मुकदमा दर्ज किए जाने की पुष्टि गौतमबुद्धनगर जिला पुलिस मुख्यालय ने भी की है. जिला पुलिस के मुताबिक, पंकज पूनिया ने सोशल मीडिया (Social Media) पर ट्विटर के जरिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी. मामले की जांच के लिए जिला पुलिस मुख्यालय ने अपर पुलिस उपायुक्त नोएडा के निर्देश पर विशेष टीम का गठन भी कर दिया है.

ट्वीट के ज़रिए यूपी सीएम को बनाया निशाना

दरअसल पुनिया ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) पर निशाना साधते हुए कांग्रेस द्वारा प्रवासियों की बसें मुहैया कराने पर राजनीति करने का आरोप लगाया था. उन्होंने इस ट्वीट में भगवान राम और संघ परिवार का भी ज़िक्र किया था.

पुनिया का यह ट्वीट तब आया जब कांग्रेस द्वारा प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों में ले जाने के लिए मुहैया कराई गई 1000 बसों को राज्य में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई. कहा गया कि इन बसों का फिटनेस प्रमाण पत्र और वैध कागजात नहीं थे.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे