चंद्रबाबू नायडू के आवास की ड्रोन से ‘जासूसी’ कर रहे थे दो शख्स, TDP कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा

पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि मैं जानना चाहता हूं कि प्राइवेट लोगों को ड्रोन उड़ाकर तस्वीरें लेने की इजाजत किसने दी.

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू के उंडावल्ली स्थित आवास के ऊपर ड्रोन से तस्वीरें लेने का मामला सामने आया है. तेलुगु देशम पार्टी(टीडीपी) के कार्यकर्ताओं ने इस मामले में दो लोगों को पकड़ लिया. सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और आरोपियों को हिरासत में ले लिया.

TDP कार्यकर्ताओं ने किया धरना
टीडीपी कार्यकर्ताओं ने पुलिस से मांग की है कि वो उन लोगों के नाम का खुलासा करे जो हाई सेक्योरिटी जोन में ड्रोन उड़ान के पीछे लगे हुए थे. साथ ही टीडीपी कार्यकर्ताओं ने इसे लेकर रिवर बैंक रोड पर धरना भी दिया. पार्टी कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि पुलिस अपराधियों को बचा रही है.

पुलिस हिरासत में लिए गए लोगों में से एक शख्स ने बताया कि उसने रिवर बैंक इलाके में वाटरफ्लो रिकॉर्ड करने के लिए सिंचाई विभाग से मंजूरी ली थी. शख्स ने दावा किया कि वे जिज्ञासवश रिवर बैंक के पास वाटर लेवल का जानकारी हासिल करने के लिए ड्रोन से शूटिंग कर रहे थे.

‘ड्रोन उड़ाने की इजाजत किसने दी?’
इस बीच, पूर्व सीएम नायडू ने खुद ही इस मामले में हाई लेवल जांच कराए जाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि डीजीपी और जिला पुलिस की इजाजत के बगैर कोई भी शख्स ड्रोन नहीं उड़ा सकता है. नायडू ने कहा कि मैं जानना चाहता हूं कि प्राइवेट लोगों को ड्रोन उड़ाकर तस्वीरें लेने की इजाजत किसने दी.

नायडू ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार जानबूझकर उनकी सुरक्षा को कमजोर करने का प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि कोई भी शख्स राज्य सरकार के सहारे के बगैर ड्रोन ऑपरेट करने की हिम्मत नहीं कर सकता है.

ये भी पढ़ें-

मस्जिद का निर्माण धार्मिक नहीं बल्कि दूसरे धर्म को कुचलने के इरादे से किया गया: रामलला विराजमान

LIVE: आर्टिकल 370 हटने के बाद घाटी में नहीं हुई एक भी मौत, सोमवार से खुल जाएंगे स्कूल-कॉलेज

आजादी के जश्न में गई 200 पक्षियों की जान, 600 के करीब घायल