आजादी के नारे…चंदन का बदला और गोपाल की बंदूक…जामिया गोलीकांड की पूरी कहानी

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक गोली चलाने वाला अपने मंसूबों को अंजाम देने के बाद वंदे मातरम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगा. पढ़ें दिनभर का घटनाक्रम...
full updates of jamia firing whole story of gopal, आजादी के नारे…चंदन का बदला और गोपाल की बंदूक…जामिया गोलीकांड की पूरी कहानी

राजधानी दिल्ली में गुरुवार को जामिया मार्च के दौरान एक युवक ने पुलिस की मौजूदगी में खुलेआम हवा में हथियार लहरागर गोली चला दी. इस गोली से एक छात्र घायल हो गया. यह पूरा गोलीकांड वहां मौजूद तमाम कैमरों में भी कैद हुआ. आरोपी को भी तुरंत पकड़ लिया गया.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक गोली चलाने वाला अपने मंसूबों को अंजाम देने के बाद वंदे मातरम और भारत माता की जय के नारे लगाने लगा. दिनभर इस खबर से जुड़े कई अपडेट्स आते रहे…इन्हीं अपडेट्स में इस युवक के गोली चलाने का खुलासा भी हुआ. पढ़ें दिनभर का घटनाक्रम…

गोली चलाने के पहले बोला, ‘आओ तुम्हें देता हूं आजादी’

दरअसल जामिया नगर में नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में प्रदर्शन चल रहा था. प्रदर्शकारी जामिया नगर से राजघाट तक मार्च निकाल रहे थे. तभी एक शख्स मार्च में आया और सबके सामने पिस्टल लहराने लगा. इसके बाद उस शख्स ने आगे बढ़ कर फायरिंग शुरू कर दी. जानकारी के मुताबिक फायरिंग करने से पहले यह शख्स जोर-जोर से चिल्ला रहा था, वो कह रहा था, “मैं हूं राम भक्त गोपाल, आओ तुम्हें देता हूं आजादी.”

30 सेकेंड तक लहराता रहा बंदूक

30 सेकेंड तक लहाराता रहा बंदूक फिर चला दी गोली. इस फायरिंग में शादाब नाम का युवक घायल हो गया. घायल युवक को होली फैमली हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया. घायल शादाब जामिया में पढ़ाई कर रहा है. डीसीपी साउथ ईस्ट दिल्ली चिन्मय बिस्वल ने बताया कि ‘जामिया फायरिंग में छात्र के बाएं हाथ में गोली लगी है. डॉक्टरों का कहना है कि वह खतरे से बाहर है. पकड़े गए आरोपी से पूछताछ की जा रही है.’

मेरी अंतिम यात्रा पर मुझे भगवा में ले जाएं

गोलीबारी करने वाले शख्स ने घटना से पहले कई बार फेसबुक लाइव किया था. फेसबुक लाइव में लोगों को प्रदर्शन करते देखा जा सकता है. आरोपी ने फेसबुक पोस्ट पर बदला लेने की भी बात कही. उसने इस यात्रा को अपनी अंतिम यात्रा बताते हुए कहा, ‘मेरी अंतिम यात्रा पर… मुझे भगवा में ले जाएं… और जय श्री राम के नारे हों.’

कासगंज हिंसा में मारे गए दोस्त चंदन की मौत का लिया बदला

दोपहर बाद इस मामले में नया खुलासा हुआ. जानकारी मिली कि गोली चलाने वाले युवक का नाम गोपाल है. आरोपी युवक गोपाल अपने दोस्त का बदला लेने के लिए आया था. ये दोस्त चंदन गुप्ता है. 26 जनवरी 2018 में कासगंज में तिरंगा यात्रा निकाली जा रही थी. इसी दौरान दो समुदायों में झड़प हो गई थी. तभी वहां फायरिंग हुई जिसमें चंदन गुप्ता को गोली लग गई थी.

नाबालिग है गोली चलाने वाला गोपाल!

इस बीच आरोपी गोपाल का आधार कार्ड सामने आया है. आधार कार्ड के मुताबिक आरोपी गोपाल नाबालिग है. आधार कार्ड में 08/04/2002 गोपाल की जन्म तिथि लिखी हुई है. आरोपी के पिता का नाम राजेंद्र शर्मा है. इसके अलावा स्कूल सर्टिफिकेट के आधार पर भी गोपाल शर्मा को नाबालिग बताया जा रहा है. ऐसे में गोपाल शर्मा पर नाबालिग के आधार पर मामला चल सकता है.

ये भी पढ़ें: जिस लड़की से शादी के सपने देख रहा था शरजील इमाम, उसी ने कराया गिरफ्तार?

Related Posts