ये तरीका अपनाया तो 4 रुपये सस्ता मिलेगा दूध

अब अगर आप मदर डेयरी से पैकेट वाले दूध की बजाय टोकन वाला दूध खरीदेंगे तो आपको 4 रुपये की सब्सिडी मिलेगी.

प्लास्टिक बैन होने को लेकर मदर डेयरी की तरफ से एक मुहिम चलाई गई है. जिसके मुताबिक अगर आप मदर डेयरी से पैकेट की बजाय डिब्बे में दूध लाते हैं तो आपको 4 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से मुनाफा होगा.

4 रुपये की बचत भले ही खास न हो लेकिन इसके पीछे प्लास्टिक के इस्तेमाल को रोकने और पर्यावरण को बचाने की जो मुहिम है वो काबिले तारीफ है. इस मुहिम के जरिए बच्चों को स्वस्थ और बेहतर भविष्य देने की कोशिश की जा रही है. मदर डेरी की तरफ से 25 राज्यों में प्लास्टिक संग्रहण और रिसाइकलिंग की मुहिम चलाई गई है.

अब अगर आप पैकेट में आने वाले दूध की बजाय टोकन वाला दूध खरीदेंगे तो कंपनी से आपको 4 रुपये की सब्सिडी मिलेगी.

पीएम नरेंद्र मोदी के सिंगल यूज प्लास्टिक आह्वान के बाद मदर डेयरी ने इस मुहिम को शुरू किया है. सिंगल यूज प्लास्टिक का मतलब है केवल एक ही बार इस्तेमाल की जाने वाली प्लास्टिक. जिसे एक बार यूज करके फेंक दिया जाता है. इसमें प्लास्टिक की थैलियां, प्लेट, ग्लास, चम्मच, बोतलें, स्ट्रॉ और थर्माकोल शामिल हैं. इस प्लास्टिक में मौजूद केमिकल काफी घातक होते हैं.

प्लास्टिक वेस्ट से बनाया जाएगा रावण

2 अक्टूबर तक कंपनी के प्रतिनिधि नोएडा और NCR के 4000 घरों में जाकर 1000 किलो प्लास्टिक वेस्ट जुटाएंगे. मदर डेरी के हर बूथ पर एक डस्टबिन भी रखा जाएगा, जिसमें प्लास्टिक वेस्ट फेंक सकते हैं. इस वेस्ट से रावण तैयार किया जाएगा और फिर सुरक्षित तरीके से रिसाइकल करेंगे.

बता दें कि नोएडा समेत पूरे NCR में पैक्ड दूध के जरिए हर घर में 2.30 किलो प्लास्टिक सालाना पहुंचता है.

नोएडा सेक्टर-1 में मौजूद मदर डेयरी के हेड ऑफिस में सीनियर बिजनेस हेड विनोद कुमार चोपड़ा के मुताबिक कंपनी NCR में 6 लाख लीटर टोकन वाले दूध की बिक्री करती है. कंपनी इसे 10 लाख लीटर तक पहुंचाना चाहती है. हर घर तक दूध की पहुंच हो, इसलिए किराये पर मदर डेयरी स्टोर और फ्रेंचाइजी से दुकानें खोली जाएंगी.

दुकानों पर इंसुलेटेड कंटेनर (एक तरह का फ्रिज) लगाने की तैयारी भी चल रही है. बिना पैकेट वाले दूध की खरीद से कस्टमर हर बार 4.2 ग्राम कम प्लास्टिक का यूज करेंगे. जिससे सालाना तौर पर 900 मीट्रिक टन प्लास्टिक का उत्पादन कम होगा.