गौतम को मिला भज्जी और लक्ष्मण का साथ, केजरीवाल को दी गंभीर ने चुनौती

आतिशी के खिलाफ अश्लील पर्चा चर्चा में आया तो गौतम गंभीर भी निशाने पर आ गए. अब गंभीर के समर्थन में भी कई लोग सामने आए हैं.

पूर्वी दिल्ली में आम आदमी पार्टी की प्रत्याशी आतिशी के खिलाफ लिखे गए विवादित पर्चे पर सियासी जंग तेज़ हो चली है. गौतम गंभीर के चौतरफा घिरने के बीच अब उनके पुराने साथी और पुराने पत्रकार भी विवाद में कूदे हैं.

सबसे पहले भारतीय टीम के टर्बनेटर हरभजन सिंह ने ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि गौतम गंभीर से संबंधित कल के घटनाक्रम को लेकर चकित हूं. मैं उन्हें अच्छे से जानता हूं और वो कभी भी महिलाओं के बारे में गलत बात नहीं कह सकते. वो जीतें या हारें ये अलग बात है मगर ये आदमी इन सब चीज़ों के ऊपर है.

उधर वीवीएस लक्ष्मण ने भी लिखा कि वो गौतम गंभीर को दो दशकों से जानते हैं और उनकी ईमानदारी, चरित्र और महिलाओं के लिए उनकी इज्जत पर गारंटी दे सकते हैं.

उनके अलावा खेल पत्रकार और सचिन तेंदुल्कर की आत्मकथा के सह लेखक बोरिया मजूमदार भी गौतम के समर्थन में आए हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि मानवीय नैतिकता चुनाव की वजह से नहीं बदल जातीं. गौतम गंभीर उनमें से हैं जो कभी नैतिक मूल्यों से समझौता नहीं कर सकते. मैं उन्हें 15 सालों से भी ज़्यादा वक्त से जानता हूं. वो एक सत्यनिष्ठ व्यक्ति हैं और कभी इस स्तर तक नहीं गिर सकते.

उधर गौतम गंभीर ने आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को ट्वीट करके चुनौतियां रख दीं. उन्होंने लिखा कि अगर केजरीवाल संबंधित पैंपलेट से उनका संबंध सिद्ध कर दें तो वो खुद को सार्वजनिक रूप से फांसी लगाने को तैयार हैं, नहीं तो केजरीवाल ही राजनीति छोड़ दें.

वैसे इससे पहले आम आदमी पार्टी के आरोपों पर गौतम गंभीर ने सीएम केजरीवाल, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और आतिशी को मानहानि नोटिस भिजवा  दिया था. उन्होंने ये भी चुनौती दी थी कि अगर इस मामले में आरोप साबित होते हैं तो वो अपनी उम्मीदवारी वापस ले लेंगे. उधर गंभीर के नोटिस ने मनीष सिसोदिया का गुस्सा भड़का दिया था. उन्होंने बेहद कड़ी भाषा में ट्वीट करके लिखा था कि ‘‘गौतम गंभीर चोरी और सीनाजोरी? इस घिनौनी हरकत के लिए तुम्हें माफी मांगनी चाहिए. मानहानि की धमकी दे रहे हो? उल्टा चोर कोतवाल को डांटे? मानहानि हम करेंगे. तेरी हिम्मत कैसे हुई ये पर्चा बांटने की और बेशर्मी से उसका झूठा इल्जाम सीएम पर लगाने की. पूर्वी दिल्ली के लोग मुझे और आतिशी को अच्छी तरह से जानते हैं. पर्चे तुम्हारी तरफ से ही बंटवाए गए. यही तुम्हारा चरित्र है.’’