तो क्या साल 2030 तक 340 लाख भारतीयों की चली जाएगी नौकरी? पढ़ें रिपोर्ट

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से वर्ष 2030 तक भारत में 5.8 प्रतिशत वर्किंग आवर कम हो जाएगा यानी कि 34 मिलियन लोगों की नौकरी जाएगी.

नई दिल्ली: अंतर्राष्ट्रीय श्रम संस्थान (ILO) लेबर ऑर्गेनाइजेशन की मानें तो साल 2030 तक लगभग 34 मिलियन यानी कि 340 लाख़ लोगों की नौकरी ग्लोबल वार्मिंग की वजह से चली जाएगी.

प्रोजेक्ट के मुताबिक पूरी दुनिया में लगभग 80 मिलियन लोगों की नौकरी जाएगी जबकि सिर्फ भारत में 34 मिलियन लोग बेरोज़गार हो जाएंगे.

‘वर्किंग ऑन ए वार्मर प्लेनेट: द इंपेक्ट ऑफ हीट स्ट्रेस ऑन लेबर प्रॉडक्टिविटी एंड डिसेंट वर्क’ नाम से छपी एक रिपोर्ट में इस बात का ख़ुलासा किया गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक बढ़ती गर्मी की वजह से लोगों की शारीरिक क्षमता कम होती है. 35 डिग्री सेल्सियस से अधिक तापमान और वातावरण में अधिक आद्रता होने की वजह से शारीरिक कमजोरी बढ़ती है.

अत्यधिक गर्मी व्यक्ति के काम-काज करने की क्षमता को बुरी तरह प्रभावित करता है.

40 लाख भारतीय बेरोजगार, तो क्या साल 2030 तक 340 लाख भारतीयों की चली जाएगी नौकरी? पढ़ें रिपोर्ट" width="660" height="430" srcset="https://www.tv9bharatvarsh.com/wp-content/uploads/2019/07/WORK-HOUR.jpg 660w, https://www.tv9bharatvarsh.com/wp-content/uploads/2019/07/WORK-HOUR-300x195.jpg 300w, https://www.tv9bharatvarsh.com/wp-content/uploads/2019/07/WORK-HOUR-600x391.jpg 600w" sizes="(max-width: 660px) 100vw, 660px" />
ग्राफिक्स फोटो www.ilo.org से ली गई है

यह रिपोर्ट उस प्रेक्षपण पर आधारित है जिसमें शताब्दी के अंत तक वैश्विक तापमान 1.5° सेल्सियस बढ़ने और श्रम-शक्ति के रुझानों पको लेकर जारी किया गया है.

इस रिपोर्ट में बताया गया है कि ‘अधिक तापमान होने की वजह से वर्ष 2030 तक ओवरऑल 2.2 प्रतिशत वर्किंग आवर में कटौती होगी, इसके साथ ही फुल टॉइम जॉब वाले लगभग 80 मिलियन लोगों की नौकरी चली जाएगी. यानी ओवरऑल 2,400 बिलियन डॉलर की वैश्विक क्षति होगी.’

40 लाख भारतीय बेरोजगार, तो क्या साल 2030 तक 340 लाख भारतीयों की चली जाएगी नौकरी? पढ़ें रिपोर्ट" width="573" height="280" srcset="https://www.tv9bharatvarsh.com/wp-content/uploads/2019/07/WORK-HOUR1.jpg 573w, https://www.tv9bharatvarsh.com/wp-content/uploads/2019/07/WORK-HOUR1-300x147.jpg 300w, https://www.tv9bharatvarsh.com/wp-content/uploads/2019/07/WORK-HOUR1-570x280.jpg 570w" sizes="(max-width: 573px) 100vw, 573px" />
ग्राफिक्स फोटो www.ilo.org से ली गई है

वहीं बात अगर सिर्फ भारत की करें तो ग्लोबल वार्मिंग की वजह से वर्ष 2030 तक 5.8 प्रतिशत वर्किंग आवर (काम करने का समय) कम हो जाएगा यानी कि 34 मिलियन लोगों की नौकरी चली जाएगी.

और पढ़ें- ‘कांवड़ यात्रा में डीजे चलेगा पर फिल्‍मी गाने नहीं’, सीएम योगी आदित्‍यनाथ का आदेश

हालांकि लेबर ऑर्गेनाइजेशन ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यह रिपोर्ट रूढ़िवादी अनुमान के आधार पर है जिसमें यह माना गया है कि वैश्विक तापमान 1.5°C से अधिक नहीं होगा.