‘विधायक बनते ही लोगों का दिमाग खराब हो जाता है’, गोवा के गवर्नर सत्‍यपाल मलिक का बयान

मलिक ने कहा, "आज भारत में कोई विधायक बन जाए तो वो पागल हो जाता है. लोगों को गांधी से सीखना चाहिए."

गोवा के राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक ने कहा है कि भारत में ‘विधायक बनते ही इंसान पागल हो जाता है.’ उन्‍होंने पणजी में महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती पर आयोजित एक सरकारी कार्यक्रम में यह बात कही. उन्‍होंने राजनीति में नैतिकता लाने का क्रेडिट महात्‍मा गांधी को दिया.

मलिक ने कहा, “वह (गांधी) राजनीति में नैतिकता लेकर आए. सार्वजनिक जीवन में नैतिकता का पहला जिक्र बुद्ध ने किया था. महात्‍मा गांधी ने सबसे सार्वजनिक जीवन में नैतिकता अपनाने का आग्रह किया.”

राज्‍यपाल ने आगे कहा, “मैं ये कहना चाहता हूं कि गांधी में कोई घमंड नहीं था. वह सादगी भरी शख्सियत थे. आज भारत में कोई विधायक बन जाए तो वो पागल हो जाता है. गांधी से सीखना चाहिए.”

मलिक ने कहा कि गांधी के राजनीतिक उत्‍तराधिकारी उनके गुणों को ‘भूल’ गए हैं. अपने गुरु राम मनोहर लोहिया को याद करते हुए मलिक ने कहा, “हम गांधी जी को लोहिया के विजन से जानते हैं. लोहिया मानते थे कि गांधीजी के शरीर को तो गोडसे ने मारा था मगर गांधी के असली राजनीतिक उत्‍तराधिकारियों ने गांधी की आत्‍मा को मार डाला. वे गांधी के गुणों को भूल गए और उन्‍हें ‘चरखे’ तक सीमित कर दिया.”

जम्‍मू-कश्‍मीर के गवर्नर रहे मलिक को 3 नवंबर को गोवा का राज्‍यपाल बनाया गया था.

ये भी पढ़ें

सत्‍यपाल मलिक को अब तक है कश्‍मीर का ‘हैंगओवर’, जानिए क्‍यों?