200 करोड़ टैक्स चोरी के शक में तीसरी पास ऑटो चालक के घर पर छापा

ऑन मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुरेश गोहिल का कहना है कि उसने तीसरी क्लास तक पढ़ाई की है और उसे जीएसटी का मतलब तक नहीं पता है.

अहमदाबाद: कचौड़ी बेचने वाले करोड़पति दुकनदार का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था कि एक और मामला सामने आ गया है. गुजरात के भरुच जिले जीएसटी विभाग की टीम ने टैक्स चोरी के शक में एक टेंपो चालक के घर छापेमारी की. जीएसटी अधिकारियों ने 200 रुपये की टैक्स चोरी के मामले में सुरेश गोहिल नाम के टेंपो ड्राइवर के घर छापा मारा.

स्टेट सर्विस एंड गुड्स टैक्स (SGST) की छापेमारी से टेंपो चालक और उनका परिवार भी हक्का-बक्का रह गए. दरअसल सुरेंद्र भरुच में टेंपो चलाकर किसी तरह अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं. सुरेंद्र भरूच की रोज करीब 200 रुपये कमाते हैं. ऐसे में जब जीएसटी विभाग की ऐसी कार्रवाई ने उसे हैरान कर दिया. काफी देर तक चले तलाशी अभियान के बाद अधिकारियों को सुरेश के घर से कुछ भी नहीं मिला.

जीएसटी (GST) विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सुरेश किसी गोहिल कंसल्टेंट कंपनी का मालिक है. उसकी कंपनी ऑनलाइन रजिस्टर्ड है. इतना ही नहीं उसकी कंपनी ने 200 करोड़ रुपये का टैक्स नहीं भरा है. हालांकि सुरेश गोहिल के घर छापेमारी में अधिकारियों को कुछ भी नहीं मिला.

जीएसटी के अधिकारियों ने ये छापेमारी जिन दस्तावेजों के चलते की थी उन पर इसी टेंपो ड्राइवर की डीटेल्स थी. अब ये अधिकारी इस बात की जांच कर रहे हैं कि आखिर गोहिल कंसल्टेंट कंपनी का असली मालिक कौन है और उसके पास इस टेंपो ड्राइवर के कागज़ कहां से आए.

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले से इसी तरह का एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ था. वाणिज्य कर विभाग की टीम ने जांच में एक छोटे से कचौड़ी व्यापारी के 60 लाख सालाना टर्न ओवर होने के मामले का खुलासा किया था. विभाग को शक था कि उसका सालाना टर्न ओवर एक करोड़ के भी पार हो सकता है. जिसे बाद दुकानदार को नोटिस जारी कर दिया गया था.