इमरजेंसी में कोरोना पेशेंट को दी जा सकेगी Remdesivir, भारत ने दी मंजूरी

अमेरिकी की बायोटेक कंपनी गिलियड साइंसेज ने साल 2014 में एंटीवायरल रेमडेसिविर (Remdesivir) मेडिसिन बनाई थी. इस दवा का ज्यादातर इस्तेमाल इबोला बीमारी के लिए गया.
antiviral drug remdesivir, इमरजेंसी में कोरोना पेशेंट को दी जा सकेगी Remdesivir, भारत ने दी मंजूरी

कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) का सामना इन दिनों भारत (India) समेत पूरी दुनिया कर रही है. देश 2 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं. ऐसे में सरकार ने मंगलवार को कोरोना पेशंट के इलाज में इमरजेंसी उपयोग के लिए एंटीवायरल ड्रग रेमडेसिविर (Remdesivir) को मंजूरी दे दी है.

दवा से करीब 65 प्रतिशत मरीजों की हालत में सुधार

अमेरिकी कंपनी गिलियड साइंसेज (Gilead Sciences)ने रेमडेसिविर ड्रग बनाई है. एक तरफ जहां अब तक कोरोना वायरस की दवा नहीं बन पाई है, वहीं रेमडेसिविर ड्रग सीरियस कोरोना पेशंट के इलाज में असरदार साबित हुई है. क्लिनिकल ट्रायल के मुताबिक ये दवा कोरोना के मामले में अच्छे रिजल्ट दे रही है. इस दवा से करीब 65 प्रतिशत मरीजों की हालत में सुधार देखा गया है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

सीरियस पेशंट्स को दी जाएगी दवा

देश में रेमडेसिविर ड्रग के इस्तेमाल को लेकर भारत की दवा नियामक निकाय सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDCSCO) ने इजाजत दे दी है. ये दवा सीरियस पेशंट्स को दी जाएगी. कोरोना के गंभीर मरीज जो अस्पताल में भर्ती हैं उन्हें ये दवा पांच दिनों तक दी जाएगी.

11 दिन में अस्पताल से छुट्टी

बताया जा रहा है कि जिन लोगों को रेमेडेसिविर दवा दी गई उन्हें औसतन 11 दिन में अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. इससे पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान के एंथनी फॉसी ने बताया था कि यह दवा गंभीर रूप से बीमार कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज में कारगर होगी. अभी इस दवा का इस्तेमाल मामूली रूप से बीमार मरीजों पर नहीं किया गया है.

क्या है रेमडेसिविर ड्रग?

अमेरिकी की बायोटेक कंपनी गिलियड साइंसेज ने साल 2014 में एंटीवायरल रेमडेसिविर मेडिसिन बनाई थी. इस दवा का ज्यादातर इस्तेमाल इबोला बीमारी के लिए गया.

कंपनी का दावा है कि यह दवा मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (Mers) और सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम (Sars) में भी लाभकारी है. मर्स और सार्स यह दोनों बीमारियां कहीं न कहीं कोरोना वायरस से भी संबंधित है और इसी के चलते रेमडेसिविर का कोरोना मरीजों पर प्रयोग किया गया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

Related Posts