सरकार ने ब्लॉक कीं खालिस्तानी समर्थक 40 वेबसाइट्स, नाकाम की ‘जनमत 2020’ की साजिश

ये ग्रुप 'जनमत 2020' के लिए समर्थकों का रजिस्ट्रेशन कर रहा था, जिसका मकसद सिखों के लिए अलग देश खालिस्तान बनाना है. SFJ ने पंजाब में अपने मतदाताओं के रजिस्ट्रेशन के लिए रूस से पोर्टल लॉन्च किया था.
Government blocks 40 pro-Khalistani websites, सरकार ने ब्लॉक कीं खालिस्तानी समर्थक 40 वेबसाइट्स, नाकाम की ‘जनमत 2020’ की साजिश

केंद्र सरकार ने रविवार को खालिस्तानी समर्थक ग्रुप ‘सिख फॉर जस्टिस’ (Sikh For Justice) की 40 वेबसाइट्स को ब्लॉक कर उनके कैंपेन को नाकाम कर दिया है. ये वेबसाइट्स अपने मंसूबों के लिए सपोर्टर्स का रजिस्ट्रेशन कर रही थीं. गृह मंत्रालय की सिफारिशों पर इन वेबसाइट्स को ब्लॉक किया गया है. गृह मंत्रालय के प्रवक्ता के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर ये जानकारी दी गई.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

ट्वीट में लिखा था कि ‘सिख फॉर जस्टिस’ UAPA के तहत एक गैरकानूनी संगठन है और इसने कैंपेन शुरू किया था, जिसमें ये अपने समर्थकों का रजिस्ट्रेशन कर रहे थे. गृह मंत्रालय की सिफारिश के बाद इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने SFJ की 40 वेबसाइट्स को ब्लॉक कर दिया.

ये ग्रुप ‘जनमत 2020’ के लिए समर्थकों का रजिस्ट्रेशन कर रहा था, जिसका मकसद सिखों के लिए अलग देश खालिस्तान बनाना है. SFJ ने पंजाब में अपने मतदाताओं के रजिस्ट्रेशन के लिए रूस से पोर्टल लॉन्च किया था. SFJ ने 1955 में दरबार साहिब में हुए हमले की याद में पोर्टल लॉन्च करने के लिए 4 जुलाई का दिन चुना.

उन्होंने पंजाब में सिख समेत 18 वर्ष से ज्यादा की उम्र वाले हर धर्म के लोगों से रजिस्ट्रेशन और वोट करने की अपील की. इसमें विदेशों में रहने वाले सिख भी शामिल थे. रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया के लिए रूस बेस्ड वेबसाइट पर अंग्रेजी और पंजाबी में पूरी जानकारी दी गई थी. जिसमें रजिस्ट्रेशन और वोटिंग के लिए तीन स्टेप बताए गए थे और इसमें साइन अप करने का भी ऑप्शन था, ताकि जनमत 2020 से जुड़ी अपडेट दी जा सके.

Related Posts