सोशल मीडिया पर फैल रही फर्जी खबरों के खिलाफ कार्रवाई करेगी सरकार, बनाया मॉड्यूल

जल्द ही शुरू होने वाले इस फैक्ट चेक मैकेनिज्म का ज्यादातर ध्यान फिलहाल सोशल मीडिया और डिजिटल कंटेंट पर होगा.

सरकार ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फैल रही फेक न्यूज पर काबू पाने के लिए फैक्ट चेक मॉड्यूल शुरू करने का फैसला किया है. यह मॉड्यूल सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन आएगा, जो कि फेक न्यूज पर तुरंत एक्शन लेगा. यह फैसला फर्जी खबरों में आई बढ़ोतरी को रोकने के उद्देश्य से लिया गया है.

ऐसी ही एक फर्जी खबर पिछले दिनों अयोध्या मसले के दौरान सामने आई थी जिसमें बताया गया कि प्रधानमंत्री मोदी ने अयोध्या पर आए फैसले के बाद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को बधाई दी थी. यह खबर बांग्लादेशी मीडिया में चलाई गई थी, हालांकि सरकार ने इसपर तुरंत कार्रवाई करते हुए साफ किया कि यह फेक खबर थी.

सूत्रों की मानें तो इसके बाद ही प्रधानमंत्री कार्यालय और सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इस तरह की खबरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए एक मैकेनिज्म बनाने की जरूरत समझी. सरकार का ये फैक्ट चेक मॉड्यूल 24 घंटे सोशल मीडिया पोस्ट और ऑनलाइन न्यूज पर नजर बनाए रखेगा और कुछ भी आपत्तिजनक मिलने पर उसकी जांच कर कार्रवाई करेगा.

यह टीम सरकार और उसकी एजेंसियों के खिलाफ फेक न्यूज फैलाने वालों की पहचान करेगी. साथ ही इस मॉड्यूल में काम करने वाले सूचना अधिकारी फेक न्यूज से पहुंचाई गई हानि की भरपाई करने के लिए सही कंटेंट बनाएगा और प्रमोट करेगा, ताकि सरकार की सही राय भी सामने आ सके. जल्द ही शुरू होने वाले इस फैक्ट चेक मैकेनिज्म का ज्यादातर ध्यान फिलहाल सोशल मीडिया और डिजिटल कंटेंट पर होगा.

ये भी पढ़ें: शादी के बंधन में बधेंगे कांग्रेस के दो विधायक, पंजाब के MLA अंगद सैनी से शादी करेंगी अदिति सिंह