गुजरात: विकास से नाखुश कई सरपंच, सरकार के खिलाफ दर्ज कराएंगे नाराजगी

Share this on WhatsAppअहमदाबाद: गुजरात के कई गावों में विकास सही तरह से न हो पाने के कारण इन गांव की पंचायत आज यानी 18 फरवरी, 2019 को राज्य सरकार के खिलाफ महा-सम्मेलन कर अपनी नाराजगी दर्ज कराएगी. यह सम्मेलन ‘सरपंच एक्ता महा-सम्मेलन’ के बैनर तले आयोजित किया गया है और आज इसका पहला दिन है. […]

अहमदाबाद: गुजरात के कई गावों में विकास सही तरह से न हो पाने के कारण इन गांव की पंचायत आज यानी 18 फरवरी, 2019 को राज्य सरकार के खिलाफ महा-सम्मेलन कर अपनी नाराजगी दर्ज कराएगी. यह सम्मेलन ‘सरपंच एक्ता महा-सम्मेलन’ के बैनर तले आयोजित किया गया है और आज इसका पहला दिन है. इस महा-सम्मेलन के संयोजकों का कहना है कि वे सरकार तक अपनी नाराजगी पहुंचाने के लिए यह कदम उठा रहे हैं.

इस बैनर तले पंचायत जो मांग कर रही है उनकी बात करें तो उनमें नगरीय निकायों में नरनिर्वाचित प्रतिनिधियों की तरह सरपंचों को 25 हजार रुपए गांव के विकास के लिए दिए जाएं, सरपंच के खिलाफ जारी किए जाने वाले अविश्वास प्रस्ताव को खारिज किया जाए, सरपंच को अपने गांव का विकास करने के लिए ज्यादा पावर दें, ताकि गांव में होने वाले विकास कार्यों में कोई अड़चन न आए.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस सम्मेलन में 14 हजार गांव के चुने हुए प्रतिनिधियों के शामिल होने की संभावनाएं हैं. डीएनए के अनुसार, सम्मेलन के संयोजक दीपक परमार ने कहा था कि हम उन अधिकारों के लिए सरकार के खिलाफ नाराजगी जाहिर कर रहे हैं जो हमारा हक है. हम सरकार से भीख नहीं मांग रहे. हम राज्य के गवर्नर से मिलेंगे और उनके सामने अपनी मांगों को रखेंगे.

राज्य की बीजेपी सरकार पहले ही किसानों और ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले लोगों की नाराजगी झेल रही हैं. ऐसे में यह सम्मेलन सरकार के लिए कितना अच्छा या बुरा साबित होता है, यह आगामी लोकसभा चुनावों में देखने को मिलेगा. वहीं पहले आईं कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ग्रामीण लोग राज्य सरकार को पूरी तरह से बर्खास्त करने के मूड में हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *