एक बार वित्त मंत्री से RBI गवर्नर को हटाने को कहा था, नितिन गडकरी ने किया खुलासा

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि आरबीआई गवर्नर 'किसी काम के नहीं हैं और उन्हें सीधे हटा देना चाहिए.'

नई दिल्ली: मौजूदा गवर्नर शक्तिकांत दास की नियुक्ति से पहले आरबीआई और केंद्र सरकार के बीच तकरार की कई ख़बरें आती रहीं.

नोटबंदी के दौरान भी सरकार पर आरोप लगे कि इस फ़ैसले से पहले आरबीआई गवर्नर से कंसल्ट तक नहीं किया गया. हर बार केंद्र सरकार पर तालमेल नहीं बिठाने का आरोप लगा लेकिन यह पहली बार है जब आरबीआई पर नाकाम रहने का आरोप लगा है.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को नागपुर में आयोजित दो कार्यक्रमों के दौरन अपनी बात को दोहराते हुए कहा किउन्होंने एक बार वित्त मंत्री से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर को हटाने के लिए कहा था.

गडकरी ने कहा, ‘मैंने गवर्नर को समझाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह अड़े थे. बाद में वित्त मंत्री ने बताया कि गवर्नर पद छोड़ने की धमकी देते हैं लेकिन छोड़ते नहीं. तब मैंने वित्त मंत्री से कहा कि अगर वह अभी पद नहीं छोड़ते हैं तो उन्हें बाहर कर दीजिए, वह किसी काम के नहीं हैं.’

गडकरी यह बताना चाह रहे थे कि कैसे रेग्युलेटर्स की सख्ती के कारण भारत में बिजनस ग्रोथ रुक गई. हालांकि, उन्होंने मौजूदा गवर्नर शक्तिकांत दास की तारीफ की है और कहा कि उनसे सकारात्मक सोच की उम्मीद की जा सकती है.

हालांकि केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने किसी का नाम नहीं लिया. उन्होंने बस इतना बताया कि उन्होंने वित्त मंत्री से कहा था कि आरबीआई गवर्नर ‘किसी काम के नहीं हैं और उन्हें सीधे हटा देना चाहिए.’

ज़ाहिर है नेशनल डेमोक्रैटिक अलायंस (एनडीए) के पहले कार्यकाल में अरुण जेटली और पीयूष गोयल वित्त मंत्री थे. जबकि उस दौरान रघुराम राजन और उर्जित पटेल ने आरबीआई गवर्नर की जिम्मेदारी संभाली थी.

राजन पहले कार्यकाल पूरा करने के बाद ही चले गए थे, जबकि उर्जित पटेल ने अपना कार्यकाल भी पूरा नहीं किया था.

और पढ़ें- भारत के खिलाफ खतरनाक साजिश रच रहा पाकिस्तान, सैटेलाइट तस्वीरों से हुआ खुलासा