हरियाणा: पति ने शौचालय में कर दिया था कैद, डेढ़ साल बाद पुलिस ने निकाला बाहर

महिला और बाल कल्याण विभाग (Women and Child Welfare Department) के अधिकारियों की एक टीम ने पीड़िता को एक बहुत छोटे और बदबूदार शौचालय से रेस्क्यू (Rescue From Washroom) किया. महिला को इलाज के बाद उसके चचेरे भाई को सौंप दिया गया.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 10:37 am, Thu, 15 October 20
एक 35 साल की महिला को उसके पति ने पिछले डेढ़ साल तक शौचालय में कैद करके रखा.

हरियाणा (Hariyana) के पानीपत (Panipat) में एक महिला को डेढ़ साल तक शौचालय (Washroom) में कैद किए जाने का मामला सामने आया है. अधिकारियों ने दावा किया कि ऋषपुर गांव में एक 35 साल की महिला (Women) को उसके पति ने पिछले डेढ़ साल से शौचालय में बंद करके रखा था.

बुधवार को जिला महिला और बाल कल्याण विभाग (State Women and Children Welfare Department) के अधिकारियों की एक टीम ने पीड़िता को एक बहुत छोटे और बदबूदार शौचालय से रेस्क्यू (Rescue) किया. महिला को तुरंत सिविल अस्पताल ले जाया गया, इलाज के बाद उसे उसके चचेरे भाई को सौंप दिया गया. पीड़ित महिला (Victim Women) तीन बच्चों की मां है.

ये भी पढ़ें-  ओडिशा: सांसद पति के खिलाफ अदालत पहुंची पत्नी, शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना का लगाया आरोप

 शौचालय से रेस्क्यू की गई डेढ़ साल से कैद महिला

पड़ोस की एक महिला ने महिला और बाल कल्याण विभाग को इस बारे में खबर दी, जिसके बाद जिला महिला सुरक्षा अधिकारी रजनी गुप्ता पुलिस अधिकारियों के साथ पीड़ित महिला के घर पहुंचीं और पीड़िता को शौचालय के अंदर बंद देखकर हैरान रह गईं.

महिला अधिकारी ने कहा कि टीम ने शौचालय में महिला को बुरी हालत में पाया. जांच के दौरान यह सामने आया कि पीड़िता पिछले डेढ़ साल से अमानवीय परिस्थितियों में रहने को मजबूर थी. वह इतनी कमजोर हो गई थी कि चल भी नहीं पा रही थी. महिला अधिकारी ने कहा कि जब उन्होंने पीड़िता को खाना दिया, तो वह एक साथ आठ रोटियां खा गई. पीड़िता का पति उसे कैद के दौरान सही ने खाना और पानी भी नहीं देता था.

आरोपी पति को पुलिस ने किया गिरफ्तार

पीड़ित महिला की शादी नरेश कुमार नाम के शख्स के साथ 17 साल पहले हुई थी, उसके तीन बच्चे हैं, जिनमें एक 15 साल की बेटी और 11 और 13 साल की उम्र के दो बेटे शामिल हैं. पीड़िता के पति ने दावा किया कि उनकी पत्नी का मानसिक स्वास्थ्य ठीक नहीं है, लेकिन कल्याण विभाग के अधिकारी ने कहा कि पीड़िता परिवार के सभी सदस्यों की पहचान आसानी से कर सकी और उसने टीम द्वारा पूछे गए सभी सवालों के सही जवाब दिए हैं.

ये भी पढ़ें- इंदौर में ऑनलाइन सट्टेबाजी का खुलासा, हिरासत में 8 लोग-1 करोड़ 31 लाख नगद बरामद

पीड़िता का पति उसके मानसिक बीमारी के इलाज से संबंधित कोई दस्तावेज भी पेश नहीं कर सका. पीड़िता के पति नरेश कुमार के खिलाफ आईपीसी की धारा 498 ए और 342 के तहत मामला दर्ज किया गया है. सनोली पुलिस स्टेशन के प्रभारी सुरेंद्र दहिया के मुताबिक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और जांच की जा रही है.