• Home  »  देश   »   कृषि कानून: चंडीगढ़ से दिल्ली तक प्रदर्शन करेंगी हरसिमरत कौर, कहा- दिखावा कर रही कांग्रेस

कृषि कानून: चंडीगढ़ से दिल्ली तक प्रदर्शन करेंगी हरसिमरत कौर, कहा- दिखावा कर रही कांग्रेस

हरसिमरत कौर (Harsimrat Kaur) ने TV9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा कि नए कृषि कानून (New Farm Law) के खिलाफ केंद्र सरकार और देश की तमाम राजनीतिक पार्टियों को जगाने के लिए अकाली दल की तरफ से ये विरोध-मार्च निकाला जा रहा है.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 1:49 pm, Thu, 1 October 20
तख्त श्री दमदमा साहिब से चंडीगढ़ के लिए शुरू विरोध मार्च की अगुवाई हरसिमरत कौर बादल कर रही हैं.

नए कृषि कानून (New Farm Law) को लागू होने से रोकने की मांग को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री और अकाली दल की सांसद हरसिमरत कौर (Harsimrat Kaur) एक बड़े काफिले के साथ आज बठिंडा से चंडीगढ़ (Chandigarh) के लिए रवाना हुई हैं. इस दौरान हरसिमरत के साथ दो से तीन हजार गाड़ियों का काफिला मौजूद है. अकाली दल की तरफ से पंजाब में सिखों के प्रमुख धार्मिक स्थलों, तीन तख्तों से विरोध-मार्च निकाले जा रहे हैं. तख्त श्री दमदमा साहिब (Takth Damdama Sahib) से चंडीगढ़ के लिए शुरू किए गए विरोध मार्च की अगुवाई खुद पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल कर रही हैं.

हरसिमरत कौर ने बठिंडा (Bathinda) से चंडीगढ़ निकलने से पहले श्री दमदमा साहिब गुरुद्वारे में माथा टेका और नए कृषि कानून (New Farm Law) के खिलाफ अरदास की. हरसिमरत कौर ने TV9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा कि केंद्र सरकार और देश की तमाम राजनीतिक पार्टियों को जगाने के लिए अकाली दल (Akali Dal) की तरफ से ये विरोध-मार्च निकाला जा रहा है. अकाली दल गरीबों, किसानों, खेत मजदूरों और खेती से अपना घर चलाने वाले आढ़तियों के साथ मजबूती से खड़ा है. उन्होंने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो, चंडीगढ़ के बाद दिल्ली के लिए भी इसी तरह से विरोध-मार्च निकाला जाएगा और केंद्र सरकार का घेराव किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-  कृ​​षि विधेयक बने कानून, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी, किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी

‘लिखकर दे सरकार,  एमएसपी खत्म नहीं होगा’

हरसिमरत कौर बादल ने कहा कि जब तक नए कृषि कानून में केंद्र सरकार ये बात लिख कर नहीं देती कि एमएसपी खत्म नहीं होगा और सरकारी एजेंसियों के द्वारा किसानों से अनाज की खरीद भी जारी रहेगी तब तक उनका आंदोलन चलता रहेगा. साथ ही उन्होंने कहा कि बीजेपी अपने पुराने सहयोगियों के साथ अलग ही तरह का रवैया अपना रही है, पहले टीडीपी उसके बाद शिवसेना और अब अकाली दल को भी सरकार के कामकाज में भरोसे में नहीं लिया गया. नए कृषि कानून को लेकर उनकी पार्टी लगातार सरकार से मांग करती रही कि अकाली दल की बात सुनी जाए, लेकिन सरकार ने उनकी नहीं सुनी.

हरसिमरत कौर ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को भी आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह जब मुख्यमंत्रियों की कमेटी में थे, तब उन्होंने कुछ नहीं किया और अब पंजाब विधानसभा का स्पेशल सत्र बुलाकर इन कानूनों को रोकने की बात कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि इससे पहले विधानसभा ने नए कृषि कानून के खिलाफ जो प्रस्ताव पारित किया था, वो फाइल अभी भी चीफ सेक्रेटरी के पास पड़ी है. सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह किसानों को गुमराह कर रहे हैं.

‘राहुल गांधी का पंजाब दौरा सिर्फ ड्रामा’

वहीं राहुल गांधी के पंजाब दौरे को हरसिमरत कौर बादल ने ड्रामा बताया और कहा कि राहुल गांधी एक ड्रामा करने के लिए पंजाब आ रहे हैं, जबकि उनकी पार्टी के मुख्यमंत्री नए कृषि कानून के लिए बनाई गई कमेटी में अपनी सहमति दे चुके हैं. अब राहुल गांधी सड़कों पर उतरकर ट्रैक्टर मार्च निकालने जैसा ड्रामा कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- कृषि कानूनों के खिलाफ विशेष विधानसभा सत्र बुलाने के लिए भी तैयार : अमरिंदर सिंह

वहीं जब हरसिमरत कौर से पूछा गया कि अगर केंद्र नए कृषि कानून को वापस ले लेती है, तो क्या अकाली दल एक बार फिर एनडीए के साथ आ जाएगा. इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अभी उनका ऐसा कोई विचार नहीं है, जब ऐसा वक्त आएगा तब सोचा जाएगा.