‘बागी’ तेवर के बाद क्या पार्टी से अलग होकर चुनाव लड़ेंगे भूपेंद्र हुड्डा? दिल्ली में आज अहम बैठक

भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने हाल ही में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस पार्टी पहले जैसी नहीं रही, कांग्रेस अपने रास्ते से भटक गयी है.

कांग्रेस पार्टी से नाराज चल रहे हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा आगामी विधानसभा चुनाव की रणनीति बनाने में जुट गए हैं. उनकी ओर से गठित 33 सदस्यों की कमेटी मंगलवार को दिल्ली में बैठक करेगी और कई फैसले लेगी.

सूत्रों के मुताबिक, भूपेंद्र सिंह हुड्डा पार्टी नहीं छोड़ना चाहते हैं. उनकी बस यही मांग है कि प्रदेश में ये मैसेज जाए कि आगामी विधानसभा चुनाव उनके अंडर लड़ा जा रहा है और दीपेंद्र को संगठन में अच्छी पोजिशन मिले. ग्राउंड सिचुएशन को समझने और आगे की कैंपेन की रणनीति तैयार करने के लिए ये बैठक है.

हुड्डा खेमे ने शुरू की चुनाव की तैयारियां

कांग्रेस आलाकमान ने फिलहाल तो हरियाणा में संगठन में फेरबदल को लेकर कोई फैसला नहीं किया है, लेकिन हुड्डा खेमे ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है. 33 सदस्यों वाली कमेटी की बैठक अपने दिल्ली के पंत मार्ग स्थित घर पर करेंगे.

रैली में की थी कमेटी की घोषणा

इससे पहले 18 अगस्त को हुड्डा ने रोहतक मे परिवर्तन रैली की थी जिसमें एक कमेटी की घोषणा की थी जो कि भूपेंद्र हुड्डा की भविष्य की राजनीति तय करेगी. हुड्डा ने रैली में ऐलान किया था कि ये कमेटी एक सप्ताह के अंदर अपनी रिपोर्ट देगी जिससे वह आगे की रणनीति तय करेंगे.

अशोक तंवर को हटाने की माँग

दरअसल भूपेंद्र हुड्डा लंबे समय से प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर को हटाने की माँग कर रहे हैं. लेकिन रोहतक में शक्ति प्रदर्शन के बाद भी, कांग्रेस आलाकमान ने हरियाणा पर अभी कोई फ़ैसला नही लिया है.

वहीं अशोक तंवर पहले ही कैंपेन में जुट गए हैं. कांग्रेस आलाकमान ने फिलहाल तो हरियाणा में संगठन में फेरबदल को लेकर कोई फैसला नही किया है, लेकिन हुड्डा खेमे ने चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है.

“कांग्रेस पार्टी पहले जैसी नहीं रही…”

कांग्रेस के सूत्रों के मुताबिक़, भूपेंद्र हुड्डा ने रैली मे जिस भाषा का प्रयोग कांग्रेस पार्टी को लेकर किया था उससे आलाकमान नाराज़ है. रैली मे हुड्डा ने कहा था, कांग्रेस पार्टी पहले जैसी नहीं रही, कांग्रेस अपने रास्ते से भटक गयी है और धारा 370 पर हुड्डा परिवार ने सरकार के फ़ैसले का स्वागत किया था. जिसके कारण अब हुड्डा परिवार को लेकर आलाकमान ने अभी तक कोई फ़ैसला नही किया है.

33 सदस्यों की बैठक काफी अहम

सूत्रों के मुताबिक कुमारी शैलजा, कुलदीप बिश्नोई को अहम ज़िम्मेदारी दी जा सकती है. दरअसल सूत्रों के मुताबिक, भूपेंद्र हुड्डा विधानसभा चुनाव मे टिकट बँटवारे का हिस्सा बनना चाहते हैं.

ऐसे में उनके लिए ज़रूरी है कि पार्टी उन्हें प्रदेश अध्यक्ष, सीएलपी नेता या फिर सेन्ट्रल इलेक्शन कमेटी का हिस्सा होना ज़रूरी है लेकिन अभी तक किसी भी प्रस्ताव पर सहमति नही बन पाई. ऐसे में 33 सदस्यों की बैठक काफी अहम है.

ये भी पढ़ें- धोखाधड़ी केस में पूर्व छत्‍तीसगढ़ सीएम अजीत जोगी के बेटे अमित को पुलिस ने किया अरेस्‍ट

ये भी पढ़ें- पूजा बेटी ने लगाई सरकार से गुहार- मेरे बैचमेट उमर अब्‍दुल्‍ला को कर दो रिहा