‘मुझे गोली मार दो’, हार का जिम्‍मेदार ठहराए जाने पर उबल पड़े हरियाणा कांग्रेस चीफ

दिल्‍ली में हुई हरियाणा के नेताओं की यह बैठक वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने बुलाई थी.
मुझे गोली मार दो, ‘मुझे गोली मार दो’, हार का जिम्‍मेदार ठहराए जाने पर उबल पड़े हरियाणा कांग्रेस चीफ

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव में हार के बाद हरियाणा कांग्रेस समन्वय समिति की बैठक में खूब बवाल हुआ. दिल्‍ली में हुई बैठक में हरियाणा कांग्रेस प्रमुख अशोक तंवर आपा खो बैठे. हार का जिम्‍मेदार ठहराए जाने के बाद तंवर ने बैठक में कह दिया, “मेरे को अगर खत्‍म करना है तो मुझे गोली मार दो.”

हरियाणा कांग्रेस के नेताओं ने द इंडियन एक्‍सप्रेस को बताया कि यह बैठक वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बुलाई थी. हरियाणा में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं. उससे पहले हुए लोकसभा चुनाव में राज्‍य की सभी 10 सीटों पर कांग्रेस हार गई. पूर्व सीएम भूपिंदर सिंह हुड्डा के खेमे वाले नेताओं ने जब तंवर को निशाने पर लिया तो माहौल गर्मा गया. आजाद इसी बीच बैठक से उठकर चले गए.

मीटिंग में क्‍या हुआ?

हार के कारणों पर चर्चा शुरू हो, इससे पहले ही हुड्डा के करीबी झज्‍जर विधायक गीता भुक्‍कल और विधायक दल की नेता किरण चौधरी के बीच बहस शुरू हो गई. कुछ देर बाद झगड़े में करनाथ से पार्टी के लोकसभा उम्‍मीदवार कुलदीप शर्मा भी कूद पड़े. उन्‍होंने तंवर पर करनाल में हुई एक ‘आत्‍ममंथन बैठक’ में उन्‍हें न बुलाने का आरोप लगाया.

तंवर ने जवाब देते हुए कहा कि शर्मा ने उनकी कॉल्‍स का जवाब नहीं दिया. दोनों के बीच बहस बढ़ती गई और तंवर आपा खो बैठे. उन्‍होंने कह दिया, “मैं अकेला हूं लेकिन मैं सबका सामना करूंगा. मेरे को अगर खत्‍म करना तो मुझे गोली मार दो.” इसके बाद तंवर वॉकआउट कर गए. पूरी बैठक 35-40 मिनट में ही खत्‍म हो गई और कोई नतीजा नहीं निकला.

ये भी पढ़ें

राजस्‍थान कांग्रेस में घमासान तेज, विधायक ने कर दी सचिन पायलट को CM बनाने की मांग

मोदी के शपथग्रहण में VVIP सीट मिली थी, V को 5 समझकर नहीं गए शरद पवार

शिवराज सरकार में मंत्री रहे कंप्यूटर बाबा को कांग्रेस ने भी बनाया मंत्री, पहली डिमांड हेलिकॉप्टर

Related Posts