हनीप्रीत-राम रहीम की मुलाकात पर पूछा सवाल तो बोले विज- अब मैं आ गया हूं, सब ठीक हो जाएगा

विज ने हनीप्रीत को राम रहीम से मिलने को लेकर भी बयान दिया. उन्होंने कहा कि अभी जांच चल रही है अगर सब कुछ ठीक रहा तो उनको इजाजत दी जाएगी.

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज के गृह विभाग का कार्यभार संभालने के बाद पहली बार उन्होंने पुलिस विभाग के कार्य की समीक्षा बैठक की. बैठक में उन्होंने पुलिस सुधार के लिये कदम उठाने की बात कही.

विज ने हनीप्रीत को राम रहीम से मिलने को लेकर भी बयान दिया. उन्होंने कहा कि अभी जांच चल रही है अगर सब कुछ ठीक रहा तो उनको इजाजत दी जाएगी. विज ने साफ शब्दों में कहा कि कानून के मुताबिक ही सब कुछ होगा.

हनीप्रीत और राम रहीम से मुलाकात में आ रही अड़चनों पर कहा कि “अब अनिल विज आ गया है. अब सब कुछ ठीक हो जाएगा.” हाल ही में गृह मंत्री अनिल विज ने ये बयान दिया था कि कानून में हर किसी को मिलने की इजाज़त है.

हालांकि सूत्रों के अनुसार सिरसा पुलिस प्रशासन ने हनीप्रीत व सुनारिया जेल में सज़ा काट रहे गुरमीत राम रहीम की मुलाकात से सिरसा में कानून एवं व्यवस्था के बिगड़ने की बड़ी आशंका जताते हुए एक रिपोर्ट सौंपी थी. अनिल विज ने कहा कि मेरे गृह मंत्री बनते ही मेरे पास प्रदेश भर से शिकायतों की बाढ़ आ गई है. मेरे फोन ई-मेल व्हाट्सएप से लेकर हर जगह हजारों शिकायतें आ रही हैं.

उन्होंने कहा कि मेरे घर पर और दफ्तर पर शिकायत देने वालों की लाइन लग गई हैं. मैंने विभाग को कहा है कि हम हर शिकायतकर्ता को इंसाफ दिलाएंगे और उसके साथ-साथ अगर उसमें किसी पुलिस अधिकारी व कर्मी की ढिलाई हुई है और अगर किसी ने उस में कोताही बरती है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई करेंगे. अगर कोई पुलिस अधिकारी जान कर के किसी की केस को लंबित रख रहा है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई होगी.

पंचकूला में हरियाणा गृह मंत्री अनिल विज ने प्रेस वार्ता के दौरान कहा पुलिस विभाग के कल्याण के लिए एक कमेटी बनाने की आदेश दिए हैं. उन्होंने कहा एक ऐसी कमेटी का गठन किया जाए जो पुलिस विभाग के कल्याण के साथ-साथ उसके लिए कार्य क्षेत्र में अच्छा वातावरण बना सके. एक पुलिसकर्मी पूरा दिन सड़क पर खड़ा रहता है लेकिन कोई उसे रोटी तक पूछने वाला नहीं होता.

उन्होंने अपना खुद का अनुभव साझा करते हुए कहा कि एक आपदा के समय सेना भी खड़ी थी और पुलिस के जवान भी खड़े थे. वहीं दोपहर के खाने के समय सेना की गाड़ी आई और सेना के सभी जवानों को खाना देकर गई लेकिन पुलिसकर्मियों को सारा दिन किसी ने पूछा तक नहीं. इसलिए अगर कहीं भी पुलिस फोर्स डेप्यूट की जाती है तो उसकी भोजन की व्यवस्था भी होनी चाहिए.

हरियाणा प्रदेश के कई थानों की जर्जर हालत पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि टूटे फूटे थानों को भी मरम्मत की जरूरत है, साथ ही उन को अपडेट करने के लिए प्रयास किए जाएं.