हरियाणा में कांग्रेस हुई मजबूत, इनेलो के बड़े नेता हुए पार्टी में शामिल

इनेलो से इस्तीफा देकर कांग्रेस में शामिल होने वाले इनेलो नेता कांग्रेस मुख्यालय में एआईसीसी के महासचिव गुलाम नबी आज़ाद, हरियाणा पीसीसी अध्यक्ष कुमारी शैलजा और हरियाणा के नेता प्रतिपक्ष भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की उपस्थिति में पार्टी की शामिल हुए.

चंडीगढ़: चुनाव का समय जैसे ही नजदीक आ जाता है सियासतदान पार्टियां बदलने लगते हैं. हरियाणा में इसी साल चुनाव होने हैं. पार्टियों ने इसके लिए कवायद भी शुरू कर दी है. इनेलो के अध्यक्ष रहे अशोक अरोड़ा सहित तमाम बड़े नेता कांग्रेस में शामिल हो गए हैं.

इंडियन नेशनल लोकदल के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मंत्री श्री अशोक अरोड़ा, पूर्व केंद्रीय मंत्री और मौजूदा विधायक जय प्रकाश, पूर्व इनेलो नेता और मंत्री श्री सुभाष गोयल, पूर्व इनेलो विधायक प्रदीप चौधरी, हरियाणा के पूर्व मंत्री स्वर्गीय बलविंदर सिंह संधू के बेटे गगनजीत संधू कांग्रेस में शामिल हो गए.

इनेलो से इस्तीफा देकर कांग्रेस में शामिल होने वाले इनेलो नेता कांग्रेस मुख्यालय में एआईसीसी के महासचिव गुलाम नबी आज़ाद, हरियाणा पीसीसी अध्यक्ष कुमारी शैलजा और हरियाणा के नेता प्रतिपक्ष भूपेन्द्र सिंह हुड्डा की उपस्थिति में पार्टी की शामिल हुए.

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले ही इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को तगड़ा झटका देते हुए पार्टी के उपाध्यक्ष अशोक अरोड़ा ने अपने समर्थकों के साथ संगठन की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था. तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि अरोड़ा कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. अरोड़ा का राजनीतिक करियर 35 वर्षों का है और वह 20 साल से अधिक समय तक इनेलो की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष रहे.

हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने अकेले ही मैदान में उतरने का फैसला किया है. मायावती ने हाल ही में एक ट्वीट कर कहा था कि “बसपा एक राष्ट्रीय पार्टी है, जिसके हिसाब से हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव में दुष्यन्त चौटाला की पार्टी से जो समझौता किया था, वह सीटों की संख्या व उसके आपसी बंटवारे के मामले में उनके अनुचित रवैये के कारण बीएसपी हरियाणा यूनिट के सुझाव पर समाप्त कर दिया गया है.”

Related Posts