100, 101 जैसे हेल्पलाइन नंबरों को याद रखने का झंझट खत्म, अब 112 डायल करने पर मिलेगी मदद

112 हेल्पलाइन नंबर से लोग एंबुलेंस, दमकल और पुलिस की मदद ले सकेंगे. पुलिस के कंट्रोल रूम में सभी दूसरी इमरजेंसी सेवाओं को जोड़ा गया है. जिसमें जरुरत के हिसाब से कनेक्ट कर दिया जाएगा.

राजधानी दिल्ली में सभी इमरजेंसी नंबर्स को सेंट्रलाइज करने की दिशा में बुधवार को एक बडा कदम उठाया गया. अब आपको 100, 101 आदि जैसे इमरजेंसी नंबर्स को याद रखने की जरुरत नहीं है. अब मदद मांगने वालों को सिर्फ 112 डायल करना होगा और उसी नंबर पर सभी तरह की मदद मिल जाएगी.

इस हेल्पलाइन नंबर से लोग एंबुलेंस, दमकल और पुलिस की मदद ले सकेंगे. पुलिस के कंट्रोल रूम में सभी दूसरी इमरजेंसी सेवाओं को जोड़ा गया है. जिसमें जरुरत के हिसाब से कनेक्ट कर दिया जाएगा. 112 नंबर को सभी इमरजेंसी नंबर्स से इंटीग्रेट किया गया है.

क्राइम को कंट्रोल करेगा ‘प्रखर’

बुधवार को केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने दिल्ली में क्राइम रोकने के लिए नई पट्रोलिंग वैन ‘प्रखर’ की भी शुरुआत की. ये स्कोर्पियो गाड़ियां हैं जिन्हें लॉन्च किया गया है.

मालूम हो कि राजधानी दिल्ली में पिछले दो सालों में स्ट्रीट क्राइम में 25 फीसदी तक कमी आई है. राज्यमंत्री किशन रेड्डी के मुताबिक अब प्रखर की शुरुआत किए जाने के बाद क्राइम में और कमी आने की उम्मीद जताई है.

ये भी पढ़ें: बुलंदशहर हिंसा के मुख्य आरोपी योगेश राज की जमानत याचिका को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने दी मंजूरी