पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा ने कन्नड में ली राज्यसभा के सदस्य की शपथ

87 साल के देवेगौड़ा कांग्रेस (Congress) के समर्थन से 12 जून को कर्नाटक से राज्यसभा (Rajya Sabha) के लिए निर्विरोध चुने गए थे. तबीयत खराब होने की वजह से वह 22 जुलाई को शपथ नहीं ले पाए थे. उन्होंने आज राज्यसभा के सदस्य की शपथ ली.

देश के पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी देवेगौड़ा ने आज राज्यसभा (Rajya Sabha) के सदस्य के रूप में शपथ ली. देवेगौड़ा ने राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू की उपस्थिति में कन्नड भाषा में राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ग्रहण की. देवेगौड़ा के स्वागत में सभापति वेंकैया नायडू ने कहा कि इस सदन की परंपरा रही है कि पूर्व प्रधानमंत्री उच्च सदन के सांसद (MP) बनते हैं और उन्हें खुशी है कि देश के वरिष्ठतम नेता इस सदन के सदस्य बने हैं.

87 साल के देवेगौड़ा कांग्रेस (Congress) के समर्थन से 12 जून को कर्नाटक से राज्यसभा के लिए निर्विरोध चुने गए थे. तबीयत खराब होने की वजह से वह 22 जुलाई को शपथ नहीं ले पाए थे. जबकि 22 जुलाई को 61 निर्वाचित सदस्यों में से 45 सदस्यों ने राज्यसभा की सदस्यता के लिए शपथ ली थी.

24 साल पहले भी राज्यसभा के सदस्य रह चुके हैं एचडी देवेगौड़ा

एचडी देवेगौड़ा दूसरी बार राज्यसभा के लिए चुने गए हैं. 24 साल पहले भी वह राज्यसभा के सदस्य रह चुके हैं. उस समय देवेगौड़ा देश के प्रधानमंत्री (Prime Minister)  थे. वह जून 1996 से अप्रैल 1997 तक देश के प्रधानमंत्री रहे.

एचडी  देवेगौडा़ का जन्म 18 मई 1933 में कर्नाटक के हरदनहल्ली गांव में हुआ था. सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद उन्होंने 20 साल की उम्र में राजनीति में प्रवेश किया. 1953 में वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए और 1962 तक इसके सदस्य बने रहे. उन्होंने किसानों वंचित और शोषित वर्ग के लोगों को उनका अधिकार दिलाने के लिए आवाज उठाई. 28 साल की उम्र में उन्होंने निर्दलीय चुनाव लड़ा, 1962 में वह कर्नाटक विधानसभा के सदस्य बने. 1967 से 1971 तक वह लगातार विधानसभाओं के लिए चुने गए.

मार्च 1972 से मार्च 1976 तक, और नवंबर 1975 से 1976 तक उन्होंने विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में भूमिका निभाई. 1994 में वह जनता दल के अध्यक्ष बने, 1994 में वह कर्नाटक के मुख्यमंत्री चुने गए. 30 मई 1996 को वह देश के 11वें प्रधानमंत्री बने.

Related Posts