कर्नाटक: 14 महीने… 4 दिन… और 99 के फेर में गिर गई कुमारस्वामी सरकार

फ्लोर टेस्ट के दौरान बीजेपी के पक्ष में 105 वोट पड़े जबकि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के खेमे में 99 वोट ही आए. इस तरह वह बहुमत के आंकड़े से पीछे रह गए और 14 महीने तक कांग्रेस के गठबंधन से चली सरकार गिर गई.

बैंगलुरू: आखिरकार 17 दिनों के बाद कर्नाटक का राजनीतिक ड्रामा खत्म हो गया है. इस सियासी ड्रामे के आखिरी दिन सूबे के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी सरकार छह वोटों से मिली हार के चलते गिर गई है. चार दिनों तक विश्वास मत पर वोटिंग को टालते-टालते आखिरकार कर्नाटक-जेडीएस को फ्लोर टेस्ट कराना पड़ा, जिसमें उसे हार का सामना करना पड़ा.

फ्लोर टेस्ट के दौरान बीजेपी के पक्ष में 105 वोट पड़े जबकि कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के खेमे में 99 वोट ही आए. इस तरह वह बहुमत के आंकड़े से पीछे रह गए और 14 महीने तक कांग्रेस के गठबंधन से चली सरकार गिर गई.

राज्य में विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद कांग्रेस और जेडीएस ने 116 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाई थी. हालांकि जुलाई की शुरुआत में कांग्रेस पार्टी के दो विधायकों के इस्तीफे के बाद राज्य सरकार में अस्थिरता पैदा हो गई. जिसके बाद राज्य में इस्तीफों का दौर भी शुरू हो गया. इसी के साथ राज्य सरकार पर खतरे के बादल मडराने लगे.

कर्नाटक के गवर्नर ने राज्य सरकार को 18 जुलाई के दिन फ्लोर टेस्ट कराने के लिए कहा. हालांकि इसकी तारीख दिन-ब-दिन बढ़ती रही. चार दिन के बाद आखिरकार इसपर मतदान हुआ और गठबंधन की सरकार गिर गई.

ये भी पढ़ें: इमरान खान ने अमेरिका में कबूला, पाकिस्तान को थी ओसामा बिन लादेन के ठिकाने की खबर