दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती एक तिहाई Covid-19 मरीज बाहरी, हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन का दावा

सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने कहा कि दिल्ली में काफी बड़ी संख्या में पड़ोसी राज्यों से भी लोग टेस्ट कराने के लिए आ रहे हैं. हॉस्पिटल में जो एडमिट हैं, उनमें एक तिहाई से ज्यादा लोग बाहर से आ रहे हैं.
Satyendra Jain on recovery rate in delhi, दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती एक तिहाई Covid-19 मरीज बाहरी, हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन का दावा

राजधानी में COVID-19 मामलों की बढ़ती संख्या के बारे में दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन (Satyendra Jain) ने बताया कि पड़ोसी राज्यों से मरीजों के इलाज के लिए आने से संख्या पर असर हुआ है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में काफी बड़ी संख्या में पड़ोसी राज्यों से भी लोग टेस्ट कराने के लिए आ रहे हैं. हॉस्पिटल में जो एडमिट हैं, उनमें एक तिहाई से ज्यादा लोग बाहर से आ रहे हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

जैन ने बताया कि दिल्ली में केसेज बढ़ रहे हैं क्योंकि बाहर से भी टेस्ट कराने के लिए लोग आ रहे हैं. परसों 97 मरीज दिल्ली से बाहर के एडमिट हुए थे और करीब 200 दिल्ली के एडमिट हुए थे, तो एक तिहाई मरीज बाहर से आ रहे हैं.

पड़ोसी राज्यों से भी लोग टेस्ट कराने के लिए आ रहे हैं

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पहले हर दिन सौ मरीज कम हो जाते थे, लेकिन अब लोग बाहर से भी आ रहे हैं. इसलिए 10-15 दिन से मरीज कम नहीं हो रहे हैं. पहले दिल्ली को लोगों ने इतना बदनाम किया था कि लोग बाहर से नहीं आ रहे थे. अब दूर-दूर से लोग दिल्ली इलाज कराने के लिए आ रहे हैं.

दिल्ली में रिकवरी रेट संतोषजनक

हेल्थ मिनिस्टर जैन ने कहा,” दिल्ली का रिकवरी रेट पूरी तरह से संतोषजनक है.” उन्होंने बताया कि कल 707 नए केस आए थे, जिसको मिलाकर कुल 1,46,134 कोरोना केस आ चुके हैं. 1070 मरीज कल रिकवर हुए. दिल्ली में फ़िलहाल एक्टिव मरीज 10,346 हैं, जो कुल मामलों के लगभग 7 फ़ीसदी हैं. रिकवरी 90 फ़ीसदी से ज्यादा हो चुकी है. 3115 मरीज अभी हॉस्पिटल्स में है. यहां कुल 13 हजार बेड हैं, जिनमें से 20 फीसदी भरे हुए हैं. रिकवरी रेट भी पूरी तरह से संतोषजनक है.

सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में डबलिंग रेट 50 दिन से ऊपर जा चुका है. देश का केस डबलिंग रेट 20 दिन के आसपास है और दिल्ली का 50 दिन है. एक समय ऐसा था जब 7 दिन में डबल हो रहे थे मामले. कल मात्र 707 केस आए, लेकिन एक दिन के आंकड़े को लेकर मत नहीं बना सकते हैं.

अस्पतालों में मरीज कम हैं, तो क्या OPD खोले जाएंगे

अस्पतालों में मरीज कम हैं, तो क्या OPD खोले जाएंगे? इस सवाल के जवाब में जैन ने कहा कि इसे लेकर रिव्यू कर रहे हैं. जितने भी होटल हॉस्पिटल्स से अटैच थे उनको रिलीज कर दिया गया है. लेकिन ये तो आंकड़े हैं, कभी 700 आते हैं तो किसी दिन 1200 या 1400 आ जाते हैं. इस ट्रेंड को लंबे समय तक देखने के बाद ही कोई फैसला हो सकता है. उन्होंने कहा देश के अंदर कोरोनावायरस नया कीर्तिमान बना रहा है, दुनियाभर में भी हर दिन दो-तीन लाख मामले आ रहे हैं. इसलिए हम अपनी तैयारियों को कम नहीं कर सकते.

बड़ी संख्या में RTPCR टेस्ट करने का कोई लॉजिक नहीं बनता है

RTPCR टेस्ट करने के लिए ICMR की क्लियर डायरेक्शन है कि या तो आप किसी के संपर्क में आए हों, जिसे कोरोना हो, या फिर आपमें कोरोना के लक्षण हों. लेकिन बिना कोरोना लक्षण या किसी और बीमारी वाले मरीजों का भी अस्पताल या फ्लू क्लीनिक में रैपिड टेस्ट आसानी से हो जाता है. कंटेनमेंट जोन में काफी बड़ी संख्या में रैपिड टेस्ट किए जा रहे हैं.

सत्येंद्र जैन का कहना है कि इतनी बड़ी संख्या में RTPCR टेस्ट करने का कोई लॉजिक नहीं बनता है, उसमें समय बहुत लगता है और इसे लेकर ICMR की कोई गाइडलाइन भी नहीं है. दिल्ली में जो सीरो सर्वे किया गया था, उसमें लगभग 24 पर्सेंट लोगों में एंटीबॉडी मिली थी. इसका मतलब है कि लगभग 45 लाख लोग जिनको संक्रमण हुआ था वे कोरोना से ठीक हो चुके हैं.

RTPCR टेस्ट के लिए केंद्र की गाइडलाइन का पालन किया जा रहा है

केंद्र सरकार के जो भी डायरेक्शन हैं, उसका पालन किया जाएगा. RTPCR टेस्ट के लिए जो केंद्र की गाइडलाइन है, उन्हीं का पालन किया जा रहा है. एंटीबॉडी टेस्ट साथ-साथ अलग से किए जा रहे हैं. सत्येंद्र जैन ने बताया कि सेटिंग्स रिव्यू मीटिंग हुई थी, 47 लोगों को रिलीज किया गया है. इसमें किसी भी पाकिस्तानी नागरिक, आतंकवादी या किसी भी गैंगस्टर को नहीं छोड़ा गया है.

इसके अलावा जैन ने कहा कि MCD के स्कूलों पर हमें काफी शिकायतें मिल रहीं हैं. दिल्ली सरकार 850 करोड़ से ज्यादा सिर्फ एजुकेशन के लिए अलग से फंड देती है. इसके बावजूद अगर वे सुविधा नहीं दे पा रहे हैं, इसका मतलब गलत हो रहा है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts