दिल्ली हाई कोर्ट में सफुरा जरगर की जमानत याचिका पर सुनवाई टली

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने सफूरा जरगर की जमानत अर्जी का विरोध किया है. पुलिस ने कहा कि गर्भवती होने की वजह से सफूरा जमानत की हकदार नहीं हो सकती. उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं.
​​Safura Zargar bail, दिल्ली हाई कोर्ट में सफुरा जरगर की जमानत याचिका पर सुनवाई टली

दिल्ली में हिंसक प्रदर्शन के मामले में गैर कानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (UAPA) के तहत गिरफ्तार सफूरा जरगर (Safoora Zargar) की जमानत याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) में कल तक के लिए सुनवाई टल गई है. सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट से मामले की सुनवाई कल तक के लिए टालने के आग्रह किया था.

सुनवाई के दौरान तीखी बहस

दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता, एडिशनल सॉलिसिटर जनरल अमन लेखी के बीच तीखी बहस हुई. बहस दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को कोर्ट में कौन रिप्रिजेंट करेगा इस मामले पर हुई.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

UAPA कानून के तहत गिरफ्तार जामिया छात्र सफुरा जरगर की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने SG तुषार मेहता और ASG अमन लेखी के दिल्ली पुलिस को रिप्रिजेंट करने पर उठाया सवाल. राहुल मेहरा ने हाई कोर्ट से कहा कि मामले में जो स्टेटस रिपोर्ट दिल्ली पुलिस की तरफ से ASG ने दायर किया है वो सही तरीका नहीं है. स्टेटस रिपोर्ट दिल्ली सरकार के जरिये कोर्ट में दायर होती है. SG और ASG के पास कोई लिखित एप्लीकेशन नहीं है कि वो इस मामले में दिल्ली पुलिस को रिप्रिजेंट करे.

हाई कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता और अडिशनल सॉलिसिटर जनरल अमन लेखी से कहा कि वो कल इस मामले में पूरी तैयारी के साथ आएं. यानी परमिशन लेटर के साथ कि वो इस मामले में दिल्ली पुलिस के वकील हैं. बहरहाल, हाई कोर्ट ने राहुल मेहरा दिल्ली सरकार के वकील को कल मामले में पेश होने को कहा है. कोर्ट ने कल तक मामले को टाल दिया है.

दिल्ली पुलिस ने किया सफूरा की जमानत अर्जी का विरोध

हाई कोर्ट में दिल्ली पुलिस ने UAPA क़ानून के तहत गिरफ्तार जामिया की छात्रा सफूरा जरगर की जमानत अर्जी का विरोध किया है. पुलिस की तरफ से ASG अमन लेखी ने स्टेटस रिपोर्ट दायर की है. दिल्ली हाई कोर्ट में दाखिल जवाब में पुलिस ने कहा है कि गर्भवती होने की वजह से सफूरा जमानत की हकदार नहीं हो सकती. उसके खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं.

आरोपी सफूरा ने हाई कोर्ट में जमानत याचिका दायर की है. जिस पर सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने सफूरा जरगर की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि प्रेग्नेंसी के मद्देनजर तिहाड़ जेल में नियमों के मुताबिक सफूरा को सभी जरूरी मेडिकल सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं. साथ ही कोर्ट को बताया गया कि पिछले 10 साल में जेल में 30 महिलाओं की डिलीवरी हो चुकी है. नियमों के मुताबिक गर्भवती कैदियों का पर्याप्त ध्यान जेल में रखा जाता है.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts