रॉबर्ट वाड्रा की गिरफ्तारी पर जारी रहेगी रोक, 12 सितंबर को होगी अगली सुनवाई

बीकानेर के कोलायत क्षेत्र में 275 बीघा जमीन के खरीद-फरोख्त से जुड़े इस मामले की जांच ईडी में चल रही है.

रॉबर्ट वाड्रा और उनकी मां मौरीन वाड्रा से जुड़ी स्काई लाईट हॉस्पिटैलिटी की याचिका पर जोधपुर हाईकोर्ट में जस्टिस जी आर मूलचंदानी की कोर्ट में सुनवाई हुई. यह पूरा मामला राजस्थान के बीकानेर जिले के कोलायत तहसील में हुई जमीन की खरीद फरोख्त से जुड़ा हुआ है. इस मामले में फिलहाल कोर्ट के अंतरिम आदेश लागू हैं और रॉबर्ट वाड्रा व उनके पार्टनर्स की गिरफ्तारी पर रोक लगी हुई है.

275 बीघा जमीन की खरीद-फरोख्त से जुड़ा मामला
गौरतलब है कि बीकानेर के कोलायत क्षेत्र में 275 बीघा जमीन के खरीद फरोख्त से जुड़े इस मामले की जांच ईडी में चल रही है. जस्टिस जी आर मूलचंदानी की अदालत में आज सुनवाई के दौरान, स्काई लाईट हॉटिलिटी प्राइवेट व वाड्रा के अधिवक्ता कुलदीप माथुर ने कोर्ट से समय मांगा.

एएसजी रस्तोगी ने कड़ा विरोध किया. एएसजी राज दीपक रस्तोगी ने कोर्ट को बताया कि पूर्व में इस मामले को अंतिम बहस के लिए विचाराधीन रखा था और वे अंतिम बहस करने के लिए तैयार है. दोनों पक्षों को सुनने के बाद मामले की सुनवाई 12 सितम्बर को अंतिम बहस की सुनवाई के लिए मुकर्रर किया है.

वाड्रा की मुसीबत बढ़ने के आसार
इससे पहले पेशी पर कोर्ट ने फर्म के सभी साझेदारों को ईडी के समक्ष पेश होकर जांच में सहयोग देने के आदेश दिए थे. उसके बाद राबर्ट वाड्रा गत 12 फरवरी को ईडी के जयपुर कार्यालय में पेश हुए और उसके सवालों का सामना किया था.

इसी कोर्ट में एएसजी राजदीप रस्तोगी ने बताया था कि रॉबर्ट वाड्रा ने अपने पार्टनर मौरीन वाड्रा को एक चेक दिया था. इस चेक के द्वारा बिचौलिए महेश नागर ने अपने ड्राइवर के नाम जमीन खरीदकर इस पूरे घोटाले को अंजाम दिया है, जो जांच का विषय है. अब इस मामले में आगामी 12 सितंबर को अंतिम बहस होगी और अंतिम बहस के साथ ही वाड्रा की मुसीबत बढ़ने के आसार नजर आ रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

28 घंटे की भागम-भाग के बाद आखिरकार गिरफ्त में आए चिदंबरम, CBI ने घर से उठाया

‘आर्टिकल 370 से ध्‍यान हटाने के लिए हुआ ड्रामा’, पिता की गिरफ्तारी पर बोले कार्ति चिदंबरम

गिरफ्तार हुए चिदंबरम, 10 पॉइंट्स में जानें अब आगे क्या होगा?