दिल्ली, यूपी, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान में भीषण गर्मी का कहर, पढ़ें अगले दो दिन का Heatwave Alert

क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र प्रमुख ने बताया, "27 मई तक, कोई राहत नहीं मिलेगी. राजधानी में सूखी, गर्म हवाओं के चलने से अधिकतम तापमान 46- 47 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है."

मौसम विभाग (IMD) ने रविवार को जारी बुलेटिन में बताया कि उत्तर भारत, विदर्भ, मध्य प्रदेश और गुजरात के कुछ हिस्सों में गर्मी का असर जारी रहेगा. मौसम विभाग के मुताबिक रविवार को हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और गुजरात के कुछ हिस्सों में हीटवेव देखी गई.

  • महाराष्ट्र के नागपुर के सोनेगांव में रविवार को भारत का अधिकतम तापमान 46.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. नागपुर राज्य में सबसे गर्म स्थान था और शनिवार को भारत में दूसरा सबसे गर्म स्थान था.
  • पूर्वी राजस्थान के पिलानी में शनिवार को अधिकतम तापमान 46.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.
  • मौसम विभाग ने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और राजस्थान में अगले दो दिनों तक रेड वार्निंग जारी की है.
  • IMD के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा है कि पूर्वी उत्तर प्रदेश में हीटवेव के लिए ऑरेंज वार्निंग जारी की गई है.
  • मौसम विभाग के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में रविवार को अधिकतम तापमान 46 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. अगले दो दिनों तक दिल्ली में हीटवेव की स्थिति जारी रहने की संभावना है.
  • राष्ट्रीय राजधानी में शुक्रवार (29 मई) के आसपास बारिश और गरज के साथ तापमान अगले हफ्ते बाद थोड़ा कम हो सकता है, मौसम विभाग का पूर्वानुमान है.
  • दिल्ली में अधिकतम तापमान 26 मई तक 46 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है. वीकैंड में कुछ राहत की उम्मीद की जा सकती है.
  • दिल्ली के क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया, “27 मई तक, कोई राहत नहीं मिलेगी. राजधानी में सूखी, गर्म हवाओं के चलने से अधिकतम तापमान 46- 47 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है. 28 मई की रात से, वेस्टर्न डिस्टर्बेंस हमें प्रभावित करेगा जो धूल भरी आंधी या गरज के साथ हो सकता है. 28 मई के बाद निचले स्तर की तेज़ हवाएं भी कुछ राहत ला सकती हैं.”
  • मौसम विभाग के अनुसार, अगले चार से पांच दिनों में नॉर्थ-वेस्ट, मध्य और प्रायद्वीपीय भारत के कुछ हिस्सों में हीटवेव की स्थिति होने की संभावना है.
  • मौसम विभाग की कलर कोडेड वार्निंग – ग्रीन, येलो, ऑरेंज और रेड – मौसम प्रणाली की तीव्रता पर आधारित हैं.

मौसम विभाग के अनुसार, हीट वेव मानी जाती है यदि किसी स्टेशन का अधिकतम तापमान मैदानी इलाकों के लिए कम से कम 40 डिग्री सेल्सिय या उससे अधिक, तटीय स्टेशनों के लिए 37 डिग्री सेल्सियस या इससे अधिक हो और पहाड़ी क्षेत्रों के लिए कम से कम 30 डिग्री सेल्सिय या अधिक हो.

Related Posts