Excellence in Investigation: NIA के पांच अफसर गृह मंत्रालय से सम्मानित, सुलझाई थी जेट हाईजैकिंग केस की गुत्‍थी

आपराधिक मामलों में बेहतरीन जांच (Excellent Investigation) को बढ़ावा देने के लिए गृह मंत्री मेडल 2018 में स्थापित किया गया था. इस साल 5 NIA अफसरों समेत कुल 121 पुलिसकर्मियों को इस मेडल से सम्मानित किया जाएगा.
home minister medal, Excellence in Investigation: NIA के पांच अफसर गृह मंत्रालय से सम्मानित, सुलझाई थी जेट हाईजैकिंग केस की गुत्‍थी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गुरुवार को बताया, ”पांच NIA अधिकारी जिन्होंने जेट अपहरण मामला, हिजबुल मुजाहिदीन मॉड्यूल केस होजाई (असम), ISIS कनकमाला मॉड्यूल केस और KYKL आतंकी फंडिंग मामले को हल किया था उन्हें ‘केंद्रीय गृह मंत्री का मेडल फॉर एक्सीलेंस इन इन्वेस्टिगेशन’ 2020 से सम्मानित किया गया.”

हरियाणा के तीन अधिकारी सम्मानित

पंजाब और हिमाचल प्रदेश के एक-एक और हरियाणा के तीन अधिकारियों को बेहतरीन और उत्कृष्ट जांच के लिए गृह मंत्री मेडल (Home Minister Medal) के लिए सेलेक्ट किया गया है. आपराधिक मामलों में बेहतरीन जांच (Excellent Investigation) को बढ़ावा देने के लिए गृह मंत्री मेडल 2018 में स्थापित किया गया था. इस साल कुल 121 पुलिसकर्मियों को इस मेडल से सम्मानित किया जाएगा.

बिक्रमजीत सिंह बरार और शशांक सावन का चयन

पंजाब (Punjab) के पुलिस उप अधीक्षक बिक्रमजीत सिंह बरार (Bikramjit Singh Brar) को 2015 से 2017 तक लक्षित हत्याओं (Targeted Killings) की पहचान कराने समेत कई सनसनीखेज मामलों के भंडाफोड़ का श्रेय दिया जाता है, जबकि हरियाणा के पुलिस अधीक्षक शशांक सावन (Shashank Sawan) ने एक छह साल की बच्ची के यौन उत्पीड़न मामले में तेजी से जांच करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

सनसनीखेज हत्या की सुलझाई थी गुत्थी 

पंजाब के पुलिस महानिदेशक (DGP) दिनकर गुप्ता (Dinkar Gupta) ने मीडिया को बताया कि उनके अधिकारी बरार ने अमृतसर के पूर्व सरपंच गुरदीप सिंह की सनसनीखेज हत्या की गुत्थी सुलझाने के अलावा गैंगस्टर सुखप्रीत सिंह उर्फ बुड्ढा की गिरफ्तारी में अहम भूमिका निभाई है.

हरियाणा (Haryana) के अधिकारी सावन, जो वर्तमान में कैथल में पुलिस अधीक्षक के रूप में तैनात हैं, ने 2018 में एक प्रवासी मजदूर की 6 वर्षीय बेटी के दुष्कर्म के मामले में तेजी से जांच की. उन्होंने अपनी जांच पूरी की और अपराध के छह दिनों के भीतर चार्ज शीट दायर की. इसके चलते झज्जर जिले के बहादुरगढ़ में दोषी को उम्रकैद हुई.

पुलिस अधीक्षक संदीप धवल का चयन

हिमाचल पुलिस (Himachal Police) के साथ पुलिस अधीक्षक संदीप धवल (Sandeep Dhawal) को 5,000 करोड़ रुपये से ज्यादा के गबन से संबंधित एक मामले की जांच के लिए पुरस्कार मिला. इस गबन को इंडियन टेक्नोमैक कंपनी लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर ने अंजाम दिया, माना जाता है कि वह दुबई (Dubai) में छिपा हुआ है.

धवल ने 2018 में हाई-प्रोफाइल गबन मामले की कमान अपने हाथों में ली. इंडियन टेक्नोमैक कंपनी लिमिटेड ने मार्च 2014 में सिरमौर जिले के पाओंटा साहिब में मैन्युफैक्चरिंग को बंद कर दिया और इसके अधिकारी गायब हो गए.

धवल ने बताया, “कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर राकेश कुमार शर्मा के बारे में कहा जाता है कि वह दुबई में है. शर्मा की गिरफ्तारी के लिए इंटरपोल (Interpol) से मदद मांगी गई है, जो चेक बाउंस होने के मामले में दुबई में 2014 में दो साल के लिए जेल गया था.” इनके अलावा, हरियाणा पुलिस के दो उप-निरीक्षकों अनिल कुमार और रीता रानी को भी इस मेडल से सम्मानित किया जाएगा. (आईएएनएस इनपुट के साथ)

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts