बड़ा खुलासा : PFI की फंडिंग से CAA के खिलाफ हल्‍लाबोल, सिब्बल और इंदिरा जयसिंह को दिए लाखों

दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में चल रहे प्रदर्शन को समर्थन देने के लिए पीएफआई की ओर से कई सारे बैंक अकाउंट खोले जाने की बात भी सामने आई है.


कट्टरपंथी और विवादित इस्लामिक संगठन पॉपुलर फ्रंट (PFI) को लेकर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बड़ा खुलासा किया है. इसके मुताबिक पीएफआई ने कपिल सिब्बल, इंदिरा जयसिंह,जयंत दवे समेत देश के कई नामी-गिरामी वकीलों को करोड़ों रुपये दिए गए हैं.

वहीं नागरिकता संशोधन कानून के विरोध प्रदर्शनों के दौरान देश के कई शहरों में हिंसा भड़काने के आरोपी और कई राज्यों में प्रतिबंधित संगठन पीएफआई का दिल्ली के शाहीन बाग धरना से चौंकाने वाला लिंक भी सामने आया है. जांच में सामने आया है कि इस इलाके में पीएफआई के कई दफ्तर खुले हुए हैं. इनमें तीन की पुष्टि हो चुकी है. इनमें कुछ दफ्तर तो धरना स्थल के काफी नजदीक खोले गए हैं.

हालांकि PFI महासचिव मोहम्मद अली जिन्ना ने CAA विरोधी प्रदर्शनों के लिए फंडिंग के आरोपों का खंडन किया है.

PFI और उसके यूनिट्स के अकाउंट में 120 करोड़

शाहीन बाग में चल रहे नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन को समर्थन देने के लिए पीएफआई की ओर से कई सारे बैंक अकाउंट खोले जाने की बात भी सामने आई है. जांच के दौरान पीएफआई के ऐसे कुल 73 बैंक अकाउंट का पता चला है. इनमें पीएफआई के 27 और उससे जुड़े यूनिट रिहैब इंडिया फाउंडेशन (RIF) के 9 समेत पीएफआई की 17 अलग-अलग यूनिटों के 37 बैंक अकाउंट में दो-तीन दिन के दौरान 120 करोड़ रुपये जमा किए गए हैं.

fundamentalist Islamic organization PFI, बड़ा खुलासा : PFI की फंडिंग से CAA के खिलाफ हल्‍लाबोल, सिब्बल और इंदिरा जयसिंह को दिए लाखों

fundamentalist Islamic organization PFI, बड़ा खुलासा : PFI की फंडिंग से CAA के खिलाफ हल्‍लाबोल, सिब्बल और इंदिरा जयसिंह को दिए लाखों

हैरत की बात यह है कि बैंक अकाउंट से दो – तीन दिनों में ही मामूली रकम छोड़कर सारा पैसा निकाल लिया गया है. खुलासा हुआ है कि PFI के अकाउंट से कई बड़े वकीलों को पैसे भेजे गए हैं. इन वकीलों में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और इंदिरा जयसिंह का नाम भी शामिल हैं. यह दस्तावेज हमारे पास है.

खुलासा हुआ है कि एक दिन में 80 (21-12-2019) और 90 (12-12-2019) से भी अधिक निकासियां की गई हैं. यह PFI और उससे संबंधित संस्‍थाओं के बैंक खातों से पैसों की निकासी की तारीख नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन की तारीख को दर्शाने वाले ग्राफ से स्‍पष्‍ट है कि पैसों की निकासी प्रदर्शन की तारीख से पहले या प्रदर्शन के दिन के दौरान की गई थी. ग्राफ से साबित होता है कि PFI और उसके संबंधित संस्‍थाओं के बैंक खातों से धन की निकासी का नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ हुए हिंसक प्रदर्शनों से सीधा संबंध है.

fundamentalist Islamic organization PFI, बड़ा खुलासा : PFI की फंडिंग से CAA के खिलाफ हल्‍लाबोल, सिब्बल और इंदिरा जयसिंह को दिए लाखों

यूपी के कई जिलों से जुटाई गई रकम

खुलासे के मुताबिक पीएफआई के अकाउंट से कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को 77 लाख रुपये, इंदिरा जयसिंह को 4 लाख, दुष्यंत दवे को 11 लाख और एनआईए की चार्जशीट में नाम वाले अब्दुल समर को 3 लाख रुपये दिए गए थे. बताया जा रहा है कि यह रकम यूपी के बहराइच, बिजनौर, हापुड़, शामली, डासना जैसी जगहों से जुटाए गए थे.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इस बारे में कहा है कि पीएफआई को लेकर जो ट्रांजैक्शन हुआ है संबंधित एजेसिंयां उसकी जांच के लिए अपना काम कर रही है. अगर किसी खास दिन पर इस तरह का ट्रांजैक्शन हुआ है तो यह जांच का विषय है.

ये भी पढ़ें –

UP में नागरिकता कानून की आड़ में हिंसा के पीछे PFI को विदेशों से फंडिंग!

15 राज्‍यों में फैला है PFI का नेटवर्क, जानें कैसे काम करता है ये संगठन