, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर
, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर

सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर

, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर

नई दिल्ली: शुक्रवार को मुंबई लोकल ट्रेन में यात्रियों को उस समय थोड़ी असहजता का सामना करना पड़ा जब एक लाल रंग के बॅाक्स के साथ कुछ लोग अंदर आए. दरअसल मामला है मुंबई के ठाणे का जहां 53 साल के एक मरीज को लिवर ट्रांसप्लांट करने के लिए परेल के ग्लोबल अस्पताल ने मुंबई लोकल का सहारा लिया. परेल अस्पताल की ट्रांसप्लांट टीम ने कहा कि उन्होंने लोकल का उपयोग करने का फैसला इसलिए लिया क्योंकि उन्हें यह तेज और भरोसेमंद लगा, हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि सड़क यात्रा में समय नहीं लगता क्योंकि अस्पतालों ने लिवर के परिवहन के लिए ग्रीन कॉरिडोर बना दिया है.

, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर

ये ऐसा पहला मामला है जब मुंबई की लाइफलाइन लोकल ट्रेन का उपयोग लिवर ट्रांसप्लांट करने के लिए किया गया है. यह पूरा मामला है दुर्घटना में घायल ठाणे के एक 53 वर्षीय शख्स का जिसे इलाज के दौरान ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया था. हालांकि उस शख्स ने पहले ही अंगदान कर रखा था. उसके दिल का भी ऑपरेशन हो चुका था. इसकी वजह से उसका लिवर दान करने की प्रक्रिया पूरी की गई. लिवर को लोकल ट्रेन में ठाणे से रवाना किया गया औक फिर दादर से अस्पताल पहुंचा गया.

, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर
, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर

Related Posts

, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर
, सड़क पर ट्रैफिक था, तो मुंबई की लोकल से ही अस्पताल पहुंचा दिया लिवर