अमित शाह बनेंगे इन तीन राज्यों में कांग्रेस के लिए मुसीबत, जानिए कैसे

कांग्रेस को मात देने वाले अमित शाह अध्यक्ष पद पर अपना कार्यकाल खत्म होने के बाद भी कांग्रेस के लिए मुसीबत बने रहनेवाले हैं. जानिए कैसे

बीजेपी झारखंड, महाराष्ट्र और हरियाणा का विधानसभा चुनाव अमित शाह के नेतृत्व में ही लड़ने जा रही है. ये स्थिति अभूतपूर्व है क्योंकि अमित शाह अब मोदी मंत्रिमंडल में शामिल हैं. उनके पास गृहमंत्री का पद है. बीजेपी में एक व्यक्ति एक पद का नियम रहा है लिहाज़ा हैरत जताई जा रही है कि अमित शाह को नियम का अपवाद बनाया गया है.

दरअसल अमित शाह के मामले में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. उनका कार्यकाल जनवरी 2019 को खत्म होना था पर उसे बढ़ाया गया ताकि पार्टी लोकसभा चुनाव उन्हीं के नेतृत्व में लड़ सके. तब तय हुआ था कि अमित शाह को साल भर के लिए एक्सटेंशन मिलेगा और उसके बाद नए अध्यक्ष का चुनाव होगा. चुनाव में बीजेपी ने शानदार जीत हासिल करके सरकार बनाई तो अमित शाह को गृहमंत्रालय की अहम ज़िम्मेदारी मिल गई. ऐसे में कुछ लोग मान रहे थे कि अब नए अध्यक्ष का आना तय है क्योंकि पार्टी की परिपाटी के मुताबिक एक व्यक्ति दो पदों पर नहीं रहेगा.

, अमित शाह बनेंगे इन तीन राज्यों में कांग्रेस के लिए मुसीबत, जानिए कैसे

अब बीजेपी महासचिव भूपेंद्र यादव ने साफ कर दिया है कि शाह अपने पद पर अगले साल की जनवरी तक बरकरार रहेंगे. इसका सीधा मतलब है कि झारखंड, महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनाव शाह की अगुवाई में ही लड़ा जाएगा. भूपेंद्र यादव ने कहा कि सदस्यता अभियान के तुरंत बाद ही संगठन के चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.