‘BJP ने मोदी की स्‍टार पावर का फायदा उठाया’, NDA की जीत पर बोला विदेशी मीडिया

पाकिस्‍तान के अखबार 'द डान' के मुताबिक मोदी की जीत उनकी 'पाक विरोधी नीति पर जनता की मुहर' है.

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी सरकार के दोबारा चुनकर आने पर लगभग मुहर लग चुकी है. एनडीए की जीत पर विदेशी मीडिया ने जो वजह बताई, वह है ‘मोदी पर जनता का विश्‍वास.’ अमेरिकी अखबार ‘द न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स’ ने लिखा है कि मजबूत छवि के चलते मोदी को जीत मिली. NYT ने मोदी को ‘हिंदू राष्‍ट्रवाद की राजनीति का ब्रांड’ बताया है. ब्रिटिश न्‍यूजपेपर ‘द गार्जियन’ का कहना है कि ‘मोदी की भाजपा ने फिर कमाल किया.’ पाकिस्‍तानी अखबार ‘द डॉन’ ने अपने पोर्टल पर लिखा है कि मोदी की जीत उनकी ‘पाक विरोधी नीति पर जनता की मुहर’ है.

‘द डॉन’ ने लिखा, “मोदी 2-0 से आगे जाते दिख रहे हैं. इसका मतलब यह कि पाकिस्‍तान के प्रति भाजपा की नीति नहीं बदलेगी और दोनों देशों के बीच तनाव भी कम नहीं होगा. सवाल यह भी है कि क्‍या मोदी पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के शांति प्रस्‍ताव को तवज्‍जो देंगे?”

पाकिस्‍तानी टीवी चैनल ‘जियो टीवी’ ने लिखा, “पुलवामा हमले के बाद मोदी का चुनाव प्रचार भारत के परमाणु शक्ति संपन्‍न पड़ोसी के साथ रिश्‍तों की तरफ मुड़ गया. इससे बीजेपी को फायदा हुआ. बीजेपी ने बेहद प्रभावी प्रचारकर्ता मोदी की स्‍टार पावर का फायदा उठाया. बीजेपी की चुनावी मशीनरी भी जमीनी स्‍तर पर ज्‍यादा प्रभावी रही.”

“ध्रुवीकरण की छवि जनता को आई पसंद”

ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (BBC) वर्ल्‍ड ने कहा, “मोदी की ऐतिहासिक जीत हुई. रुझान सामने आते ही भारत के स्‍टॉक मार्केट में उछाल आ गया. मोदी पर भारत को बांटने के आरोप लगे लेकिन परिणाम दिखा रहे हैं कि उनकी ध्रुवीकरण वाली छवि को बहुत से लोगों ने पसंद किया.”

NYT ने लिखा, “हिंदू राष्‍ट्रवाद की राजनीति के ब्रांड बन चुके मोदी ने पूरी दुनिया में भारत की जो मजबूत छवि पेश करने की कोशिश की थी, उसने देश के 91 करोड़ मतदाताओं को प्रभावित किया. मोदी को व्‍यापार के लिहाज से भी बेहतर माना गया. उन्‍होंने टैक्‍स व्‍यवस्‍था को सरल किया और भ्रष्‍टाचार पर लगाम कसी.”

CNN ने कहा कि “मोदी ने इस बार खुद को चौकीदार कहा. बेहद प्रभावी तौर पर उन्‍होंने खुद को देश का रक्षक दिखाया. यह बहुत अलग संदेश है. 2014 में अर्थव्‍यवस्‍था में किए गए वादों ने मोदी को बेहद लोकप्रिय बनाया था. न केवल भारत, बल्कि पूरे भारत में इसी वजह से उन्‍हें इतनी गंभीरता से लिया जाता है.”

ये भी पढ़ें

2019 के ‘मैन ऑफ द मैच’ बने अमित शाह, इस रणनीति से किया विपक्ष को ध्‍वस्‍त

मोदी को चोर कहना गलत था, बीजेपी की जीत पर बोले नितिन गडकरी