बालाकोट में एयर स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए?

एक तरफ भारतीय मीडिया में दावा किया जा रहा है कि पाकिस्‍तान में की गई एयर स्‍ट्राइक में 300 से 350 दहशतगर्द मारे गए. वहीं इंटरनेशनल मीडिया रिपोर्ट में अलग तस्‍वीर निकलकर सामने आ रही है.

नई दिल्ली: 26 फरवरी को बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकाने पर की गई एयर स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए? ये सवाल विदेशी मीडिया और राजनीतिक मोर्चों पर पूछे जा रहे हैं. 28 फरवरी को तीनों सेनाओं की ज्वाइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी कहा गया कि बालाकोट एयर स्ट्राइक को लेकर सारे सबूत सरकार को सौंप दिए गए हैं, पर अब वही सबूत दिखाने की मांग तेज़ हो गयी है.

रॉयटर्स का दावा- एयर स्ट्राइक में देवदार के पेड़ गिरे
ब्रिटेन की न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स ने भारत की एयर स्ट्राइक को लेकर जाबा के दौरे के बाद अपनी रिपोर्ट में कुछ तथ्यों का दावा किया है. एजेंसी के मुताबिक- वहां हमले से घायल सिर्फ़ एक ही पीड़ित है, जिसकी दाहिनी आंख पर हमले की वजह से चोट आई है. यहां चार बम गिरने के निशान हैं और देवदार के पेड़ बिखरे पड़े हैं.

बीबीसी का दावा- एयर स्ट्राइक में एक शख़्स को मामूली चोट
बीबीसी के मुताबिक- भारतीय हमले के बाद उनकी संवाददाता सहर बलोच बालाकोट पहुंचीं. उन्होंने इस हमले में घायल शख़्स नूरान शाह से बात की. उनका घर एयर स्ट्राइक वाले घटनास्थल के पास ही है. वहीं एक और संवाददाता नूरान शाह ने कहा- “पिछली रात (25-26 फरवरी) मैं सोया हुआ था, उनकी तेज़ आवाज़ से मैं जाग गया. जब मैं उठा तो बहुत तेज़ धमाका हुआ. हम उधर ही बैठे रहे. थोड़ी देर बाद हम उठे तो देखा मकान की दीवीरें और छत पर दरारें थीं. मेरे सिर पर थोड़ी चोट आई है”.

अल जज़ीरा का दावा- मलबे और जान-माल के नुकसान के सबूत नहीं
क़तर के न्यूज़ ब्रॉडकास्टर अल जज़ीरा ने लिखा है- “26 फरवरी को उत्तरी पाकिस्तान के जाबा में जंगलों में चार बम गिरे थे. धमाकों के विस्फोट से हुए गड्ढे में टूटे हुए पेड़ और जगह-जगह पत्थर पड़े थे. लेकिन वहां पर किसी तरह के मलबे और जान-माल के नुकसान के कोई सबूत नहीं नज़र आए”.

देश जानना चाहता है, कितने आतंकी मारे गए?- ममता बनर्जी
28 फरवरी को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एयर स्ट्राइक को लेकर कहा- “जवानों का जीवन चुनावी राजनीति से ज़्यादा क़ीमती है. लेकिन देश को ये जानने का अधिकार है कि पाकिस्तान के बालाकोट में वायुसेना के हवाई हमले के बाद वास्तव में वहां क्या हुआ था? हवाई हमलों के बाद हमें बताया गया कि 300-350 मौतें हुईं, लेकिन मैंने न्यूयॉर्क टाइम्स और वॉशिंगटन पोस्ट में ऐसी ख़बरें पढ़ी हैं, जिनमें कहा गया है कि कोई इंसान नहीं मारा गया. एक अन्य विदेशी मीडिया रिपोर्ट में केवल एक व्यक्ति के घायल होने की बात कही गई थी. देश को ये जानने का अधिकार है कि कितने लोग मारे गए, वास्तव में बम कहां गिराया गया? क्या ये लक्ष्य पर गिरा था?”.

वायुसेना का दावा- सारे सबूत सरकार को सौंपे
28 फरवरी को साउथ ब्लॉक में देश की तीनों सेनाओं ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें 27 फरवरी को F-16 विमान गिराए जाने के सबूत भी दिखाए गए. लेकिन, जब मीडिया ने सवाल पूछे कि 26 फरवरी की एयर स्ट्राइक में कितने आतंकी मारे गए, तो एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने कहा- हमारे पास सारे सबूत मौजूद हैं, जो सरकार को दे दिए गए हैं. अब इस पर फ़ैसला सरकार को करना है.