रेप जैसे जघन्य अपराध को रोकने के लिए सख्त कानून बनाने को तैयार सरकार

सदन की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए सरकार सख्त कानून बनाने के लिए प्रावधानों में आवश्यक बदलाव करने के लिए तैयार है.

पिछले हफ्ते हैदराबाद में एक 27 वर्षीय वेटनरी डॉक्टर से सामूहिक दुष्कर्म और फिर हत्या के वीभत्स अपराध की निंदा करते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को कहा कि सरकार भविष्य में ऐसे अपराधों को रोकने के लिए सख्त कानून बनाने के लिए तैयार है. सदन के उप नेता के तौर पर रक्षा मंत्री ने कहा कि कोई भी कार्य उतना अमानवीय नहीं हो सकता है, जितना कि हैदराबाद में हुई यह घटना है.

उन्होंने कहा, “पूरा देश आहत हुआ है. सभी सांसदों ने इस घटना की निंदा की है और अपराध में शामिल अभियुक्तों को कठोर सजा देने की मांग की है.”

सिंह ने कहा, “निर्भया की घटना के बाद एक सख्त कानून बनाया गया और लोगों ने सोचा कि इस तरह की घटनाओं की संख्या घट जाएगी. लेकिन, ऐसी वीभत्स हरकतें लगातार हो रही हैं.”

उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से इस मुद्दे पर विस्तृत चर्चा करने की बात कही. उन्होंने कहा, “सदन की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए सरकार सख्त कानून बनाने के लिए प्रावधानों में आवश्यक बदलाव करने के लिए तैयार है.”

शून्यकाल के दौरान सदन में विपक्ष द्वारा दूसरी बार मामला उठाए जाने के बाद मंत्री ने इस मुद्दे पर बात की. विभिन्न नेताओं ने ऐसे अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए हैदराबाद दुष्कर्म और हत्या मामले में शामिल दोषियों को कड़ी सजा देने के साथ-साथ एक सख्त कानून बनाने की मांग की.

इससे पहले कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी दलों के नेताओं ने इस सामूहिक दुष्कर्म की घटना का मुद्दा उठाया और फिर सदन के अध्यक्ष ने उन्हें शून्यकाल मामले को उठाने की सलाह दी.

ये भी पढ़ें: दिन में दुष्कर्म के आरोपियों को फांसी दिलाने के लिए प्रदर्शन, रात को नशे में मॉडल से छेड़खानी