हैदराबाद एनकाउंटर पर उठ रहे सवालों के बाद अब क्या करेगी सरकार? जानिए क्या कहता है कानून

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील अश्विनी उपाध्याय ने टीवी9 भारतवर्ष से बातचीत कर सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के बारे में बताया. सरकार को आगे कौनसा कदम उठाना चाहिए इस पर भी उन्होंने राय दी.
supreme court guidelines on encounter killings, हैदराबाद एनकाउंटर पर उठ रहे सवालों के बाद अब क्या करेगी सरकार? जानिए क्या कहता है कानून

हैदराबाद में दुष्कर्म और हत्या के आरोपियों का एनकाउंटर होने के बाद कई सवाल पुलिस की मुठभेड़ पर खड़े हो रहे हैं. इस मुठभेड़ को लेकर टीवी9 भारतवर्ष के संवाददाता पीयूष पाण्डेय ने सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील अश्विनी उपाध्याय से बात की.

उन्होंने हैदराबाद में हुए एनकाउंटर पर कहा, ”जब इस तरह के मामले आते हैं तो सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन के अनुसार उसकी जांच करना जरूरी है. इसकी जांच किस रैंक का अधिकारी करेगा ये वहां की सरकार तय करेगी. जब ऐसे एनकाउंटर होते हैं तो उनकी जांच जरूर होती है. जांच में कम से कम डीएसपी स्तर का अधिकारी होता है. मुझे लगता है कि इसमें एसपी या उससे ऊपर के अधिकारी इसकी जांच करेंगे.”

ऐसे मामलों के लिए सरकार को आगे क्या कदम बढ़ाना चाहिए इस सवाल पर उन्होंने कहा, ”वर्तमान संसद सत्र चल रहा है. भारत में भी नारको एनालिसिस टेस्ट, पॉलीग्राफ और ब्रेन मैपिंग मेंडेटरी करने के लिए कानून बनाया जाए. अभी आरोपियों से इस टेस्ट के लिए पूछना पड़ता है कि टेस्ट कराएं या नहीं वह बोल देता है कि नहीं तो टेस्ट नहीं होता है. इसलिए इसी संसद सत्र में इस कानून को बनाया जाना चाहिए ताकि कोई अपराधी छूटे नहीं और किसी भी निर्दोष के लिए सजा न हो.”

ये भी पढ़ें-

हैदराबाद एनकाउंटर: आरोपियों के हमले से घायल हुए ये दो पुलिस कर्मी, ICU में चल रहा इलाज

हैदराबाद एनकाउंटर: 30 मिनट में कुछ ऐसे आरोपियों का काम तमाम, पढ़ें मिनट दर मिनट कहानी

Related Posts