हैदराबाद: भारी बारिश से मची तबाही, 6 साल के मासूम समेत दो की मौत, आम जीवन ठप

मौसम विभाग का कहना है कि रविवार को शहर के कुछ हिस्सों में बिजली कड़कने के साथ-साथ हल्की बारिश हो सकती है. शहर भर में बारिश को लेकर 21 अक्टूबर तक अलर्ट जारी कर दिया गया है.

FILE

मूसलाधार बारिश के चलते हैदराबाद में भीषण बाढ़ के हालात बन गए हैं, जिसके चलते इस सप्ताह कम से कम 50 लोगों की मौत का दावा किया जा रहा है. इसी क्रम में शनिवार रात हुई मूसलाधार बारिश के चलते कम से कम दो लोग और मारे गए. मृतकों में एक छह साल की बच्ची भी शामिल है, जो कि घर का एक हिस्सा गिरने के बाद दब गई और जिंदा दफन हो गई.

शनिवार को बाढ़ के जो वीडियो आए उनमें पानी के तेज बहाव में कई वाहन बहते हुए दिखे और निचले इलाकों में रहने वाले लोग खुद को डूबने से बचाने के लिए संघर्ष करते हुए नजर आए. बालानगर झील में पानी खतरे के निशान से ऊपर बह गया औ पुराने शहर, चंद्रायंगुट्टा, फलकनुमा और इसके आसपास के इलाकों में गंभीर बाढ़ का कारण बना. पानी लोगों के घरों में घुस गया जिसके चलते लोगों को अपनी छतों पर रात बितानी पड़ी.

अब कोरोना का खात्मा ज्यादा दूर नहीं… Pfizer की प्रोडक्शन लाइन पर पहुंची कोरोना वैक्सीन

बाढ़ की ऐसे ही कई वीडियो सोशल मीडिया के जरिए सामने आ रहे हैं. एक वीडियो में देखने को मिला की एक कार तेज बहाव के बीच फंस गई, जिसे बचाने के लिए एक जेसीबी को आना पड़ा. कार में चार लोग सवार थे. राज्य पुलिस और GHMC की मदद से सेना और NDRF की आपदा राहत टीम लगातार पानी के ठहराव को रोकने और लोगों के बचाव कार्य में जुटी हुई हैं.

ट्विटर पर शेयर की गई एक वीडियो में एक ऑटो रिक्शा बाबा नगर में आई बाढ़ में बह गया. स्थानीय लोगों ने उस ऑटो को बचाने की कोशिश भी की. ऐसी ही एक और वीडियो में एक शख्स भारी बारिश के चलते हुए जलभराव में तैरता हुआ दिखा. आधिकारिक डेटा के मुताबिक मेडचल-मल्काजगिरी जिले की सिंगापुर टाउनशिप में 157.3 एमएम बारिश दर्ज हुई. वहीं उप्पल के पास बंगलागुडा जिले में 153 एमएम बारिश हुई.

GHMC के सतर्कता और आपदा प्रबंधन के निदेशक, विश्वजीत कंपाटी ने कहा कि आपदा प्रतिक्रिया बल (DRF) के कर्मचारी रुके हुए पानी को साफ करने के लिए हर संभव उपाय कर रहे हैं. उन्होंने कहा, “DRF की टीमें लगातार पानी की निकासी के लिए फील्ड पर काम कर रही हैं. सभी संभावित उपाय किए जा रहे हैं.” शहर में स्थापित शिविरों में राहत के लिए फंसे लोगों को ट्रांसफर करने के लिए 20 से ज्यादा आपदा राहत दल तैनात किए गए हैं. अलग-अलग सामुदायिक रसोई ने भी प्रभावित लोगों को राहत सामग्री प्रदान करने के लिए हाथ मिलाया है.

मौसम विभाग का कहना है कि रविवार को शहर के कुछ हिस्सों में बिजली कड़कने के साथ-साथ हल्की बारिश हो सकती है. शहर भर में बारिश को लेकर 21 अक्टूबर तक अलर्ट जारी कर दिया गया है.

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे अपने पत्र में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने राज्य भर में बाढ़ की तबाही को देखते हुए 5,000 करोड़ रुपये के नुकसान का हवाला देते हुए धन के रूप में तत्काल 1,350 करोड़ रुपये जारी करने का अनुरोध किया है.

Sonu Sood Biopic: बायोपिक बनाने को लेकर सोनू सूद ने रखी ये शर्त, बोले- तभी बनेगी जब…

Related Posts