बच्चों की कसम खा कर कहता हूं मेरा दंगों से कोई लेना-देना नहीं है : ताहिर हुसैन

ताहिर हुसैन पर अंकित की हत्या कराने का भी आरोप लग रहा है इसपर उनका कहना है कि अंकित का परिवार इस वक्त दुखी है और वो आरोप लगा सकता है, लेकिन मैं यही कहना चाहूंगा कि मेरा इस घटना से कोई लेनादेना नहीं है.
I swear to children have nothing to do with delhi violence said Tahir Hussain, बच्चों की कसम खा कर कहता हूं मेरा दंगों से कोई लेना-देना नहीं है : ताहिर हुसैन

दिल्ली के खजूरी इलाके में हिंसा भड़काने के मामले में आरोपों का सामना कर रहे आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन ने न्यूज एजेंसी से बातचीत में सफाई पेश की है. उन्होंने इस दौरान अपने बच्चों की सौगंध खाते हुए कहा कि उनका इस घटना से कोई लेना-देना नहीं है. इस घटना के बारे में ताहिर ने कहा कि उस इलाके में उनकी ही बिल्डिंग ऐसी है, जहां लोग चढ़ सकते थे और उसका गलत इस्तेमाल कर सकते थे. ताहिर का कहना है कि उन्होंने खुद उनकी बिल्डिंग में चढ़ रहे लोगों को डंडे से रोका था.

मैंने दंगाइयों को डंडे से रोका

उन्होंने कहा कि उनकी पत्नी और वहां मौजूद हिंदू भाइयों ने भी पास की गली में लगी आग को बुझाने का काम किया. आम आदमी पार्टी नेता ताहिर हुसैन ने कहा कि जितना मैं लोगों को रोक सकता था उतना मैंने रोका. ऊपर चढ़े लोगों को भी नीचे उतारा. पास में पार्किंग की बहुत सारी गाड़ियां खड़ी थीं, उनमें आग लग गई थी. तब हिंदू भाइयों ने भी अपनी-अपनी छतों से उस पर पानी डाला. ताहिर का कहना है कि उन्होंने दंगों को रोकने का काम किया है.

उनके परिवार के जाने के बाद हुई घटना

उन्होंने कहा कि 24 तारीख को साढ़े 11 बजे पूरी बिल्डिंग की तलाशी कराने के बाद सीनियर पुलिस अधिकारियों ने उन्हें वहां हटा दिया था, जबकि ये घटना 25 तारीख की है, जब 24 तारीख को दिल्ली पुलिस की निगरानी में उनका परिवार वहां से सुरक्षित जगह चला गया था और बिल्डिंग पुलिस के हवाले हो गई थी. तारिक का कहना है, ‘उसके बाद हमारे परिवार का कोई सदस्य वहां नहीं गया. बस सुबह गाड़ी निकालने के लिए मैं और कुछ सामान लेने मेरी पत्नी वहां गई थीं. ये सब पुलिस की मौजूदगी में हुआ.’

जांच में दूंगा पूरी तरह से सहयोग

तारिक ने बताया कि जब उन्हें सूचना मिली की उनकी बिल्डिंग से पुलिस बल की तैनाती कम होती जा रही है, तब उन्होंने पुलिस को 100 नंबर पर फोन लगाया. जब फोन नहीं लगा तो उन्होंने जॉइंट कमिश्नर को फोन लगा कर वहां पुलिस बल तैनात करने का आग्रह करते हुए कहा कि उनकी बिल्डिंग का दुरुपयोग किया जा सकता है और वहां मौजूद सामानों को नुकसान पहुंचाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर जो भी पड़ताल होगी वह उसमें सहयोग देने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.

अंकित की मौत का दुख, लेकिन मेरा इसमें कोई हाथ नहीं

ताहिर हुसैन पर अंकित शर्मा की हत्या कराने का भी आरोप लग रहा है. इसपर उनका कहना है, ‘मैं उन्हें निजी तौर पर नहीं जानता था. उनकी मौत से मैं दुखी हूं. अंकित का परिवार इस वक्त दुखी है और वो आरोप लगा सकता है, लेकिन मैं यही कहना चाहूंगा कि मेरा इस घटना से कोई लेनादेना नहीं है.’ ताहिर हुसैन ने इन दंगों के लिए कपिल मिश्रा और वारिस पठान जैसे लोगों को जिम्मेदार ठहराया है. इसी के साथ ताहिर हुसैन ने न्यूज एजेंसी से बात करते हुए कहा, “मैं अपने बच्चों की सौगंध खाकर कहता हूं कि मेरा इस मामले से कुछ लेना देना नहीं है.”

ये भी पढ़ें : घर से मिले पेट्रोल बम और लगा IB कांस्टेबल की हत्या का आरोप, जानिए कौन हैं AAP पार्षद ताहिर हुसैन

Related Posts