महिला पायलट्स के प्रदर्शन से खुश IAF, अब लंबे समय तक उड़ा सकेंगी फाइटर जेट

फिलहाल, इंडियन एयरफोर्स (Indian Air Force) में कुल 111 महिला पायलट (Women Pilot) अपनी सेवा दे रही हैं, जिनमें वो भी शामिल हैं जो कि ट्रांसपोर्ट प्लेन और हेलिकॉप्टर उड़ाती हैं.
IAF happy with women pilots performance, महिला पायलट्स के प्रदर्शन से खुश IAF, अब लंबे समय तक उड़ा सकेंगी फाइटर जेट

एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया (Air Chief Marshal RKS Bhadauria) ने बुधवार को कहा कि इंडियन एयरफोर्स (Indian Air Force) में महिलाओं को फाइटर जेट उड़ाने की अनुमति देना पांच साल के प्रयोग के रूप में शुरू किया गया था, लेकिन अब महिला पायलट्स (Women Pilots) को लंबे समय तक डिमांडिंग रोल में सर्व करते हुए देखा जा सकेगा.

पहले महिला पायलट्स को फाइटर जेट उड़ाने की अनुमित नहीं थी, लेकिन पिछले साल ही एयरफोर्स ने कई महिला पायलट्स को अपनी फाइटर जेट उड़ाने वाली टीम में शामिल किया था. हालांकि प्रयोग के तौर पर उन्हें केवल पांच साल की ही अनुमति मिली थी, पर अब वो अन्य पायलट्स के मुकाबले लंबे समय तक अपनी सेवा में बनी रह सकेंगी.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

एचटी की रिपोर्ट के अनुसार, महिला फाइटर पायलट्स के बारे में बात करते हुए भदौरिया ने कहा कि जहां तक ​​महिला फाइटर पायलट्स के प्रदर्शन का सवाल है, इंडियन एयरफोर्स उनकी प्रगति से संतुष्ट है और हम इस विकल्प (पांच साल से अधिक) को विस्तार करने का इरादा रखते हैं. फाइटर स्ट्रीम में शामिल होने वाली महिलाओं की प्रतिक्रिया और प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है.

फिलहाल, इंडियन एयरफोर्स में कुल 111 महिला पायलट अपनी सेवा दे रही हैं, जिनमें वो भी शामिल हैं जो कि ट्रांसपोर्ट प्लेन और हेलिकॉप्टर उड़ाती हैं. इंडियन एयरफोर्स के इतिहास में एक वाटरशेड 2015 में कॉम्बेट स्ट्रीम में शामिल होने की एक्सपेरिमेंटल स्कीम के बाद नौ महिलाओं को लड़ाकू पायलट के रूप में कमीशन दिया गया.

एयरफोर्स चीफ ने रक्षा क्षेत्र में चल रहे सुधारों के बारे में विस्तार से बात की, कोरोनवायरस महामारी के कारण अर्थव्यवस्था पर पड़े प्रभाव से बजट में कटौती की संभावना, स्थानीय स्तर पर एयरफोर्स के आधुनिकीकरण और भारतीय सेना के थियेटराइजेशन में हल्के लड़ाकू विमान की भूमिका पर भी चर्चा की. एयरफोर्स के बजट पर बात करते हुए एयर चीफ ने कहा कि एयरफोर्स अपनी खरीद योजनाओं को तर्कसंगत बनाने और पुन: प्राथमिकता देने के उद्देश्य से विभिन्न चरणों के माध्यम से व्यय को कम करने पर काम कर रही है.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts