कब तक सैनिकों की जान से खेलता रहेगा एयरफोर्स, एक और विमान हुआ दुर्घटनाग्रस्त

Share this on WhatsAppनई दिल्ली: बेंगलुरु में वासुसेना के लड़ाकू विमान ‘मिराज 2000’ के दुर्घटनाग्रस्त होने पर हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) पर एक बार फिर सवालिया निशान लग गए हैं. इस घटना में वायुसेना के पायलट स्क्वॉड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी और स्क्वॉड्रन लीडर समीर अबरोल शहीद हो गए. यह घटना तब हुई जब HAL द्वारा […]

नई दिल्ली: बेंगलुरु में वासुसेना के लड़ाकू विमान ‘मिराज 2000’ के दुर्घटनाग्रस्त होने पर हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) पर एक बार फिर सवालिया निशान लग गए हैं. इस घटना में वायुसेना के पायलट स्क्वॉड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी और स्क्वॉड्रन लीडर समीर अबरोल शहीद हो गए.

यह घटना तब हुई जब HAL द्वारा निर्मित लड़ाकू विमान मिराज 2000 को अपग्रेड करने के बाद टेस्ट फ्लाइट के लिए उड़ाया जाना था. यह हादसा 10 बजकर 30 मिनट पर हुआ. टेक ऑफ से पहले जहाज दीवार से टकरा गया और दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इस हादसे में  स्क्वॉड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी और स्क्वॉड्रन लीडर समीर अबरोल  की मौत हो गई. इससे पहले 10 मिराज दुर्घटनाग्रस्त हो चुके हैं जिसके बाद से HAL की काबिलियत पर एक बार फिर से सवाल उठने लगे है.

हादसे में शहीद हुए स्क्वॉड्रन लीडर सिद्धार्थ नेगी को जून 2009 में कमीशन किया गया था जबकि स्क्वॉड्रन लीडर समीर अबरोल को जून 2008 में. इससे पहले HAL द्वारा निर्मित जैगुआर विमान उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था हालांकि इसमें किसी के हताहत होने की खबर नहीं थी. इसलिए प्रश्न यही उठता है कि जब लगातार HAL निर्मित विमान दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं तो इसके बाद भी सरकार सबक क्यों नहीं ले रही है.