अहंकार और अशिष्टता की वजह से IAS अधिकारी शशिकांत सेंथिल ने दिया इस्तीफा, बोले हेगड़े

'इससे बड़ा राष्ट्रद्रोह और कोई नहीं हो सकता कि एक आईएएस अधिकारी बहुमत के आधार पर लिए गए केंद्र और संसद के फैसले पर सवाल उठाए.'

बेंगलुरु: विवादास्पद टिप्पणियों के लेकर सुर्खियों में रहने वाले भाजपा नेता अनंत कुमार हेगड़े ने कर्नाटक में आईएएस अधिकारी शशिकांत सेंथिल के इस्तीफे को ‘अहंकार में उठाया गया कदम’ करार दिया है. इसके साथ ही उन्होंने सेंथिल को पाकिस्तान चले जाने को भी कहा. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने ट्विटर पर एक वीडियो संदेश में कहा कि इससे बड़ा राष्ट्रद्रोह और कोई नहीं हो सकता कि एक आईएएस अधिकारी बहुमत के आधार पर लिए गए केंद्र और संसद के फैसले पर सवाल उठाए.

सेंथिल ने छह सितंबर को भारतीय प्रशासनिक सेवा से इस्तीफा देते हुए एक पत्र में कहा था कि ‘लोकतंत्र का निर्माण करने वाले मौलिक सिद्धांतों से अभूतपूर्व तरीके से समझौता किया जा रहा है.’ हेगड़े ने सेंथिल पर निशाना साधते हुए कहा, ‘उन्हें पहली चीज यह करनी चाहिए कि उन्हें उन लोगों के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए, जो उनके इस कदम का समर्थन कर रहे हैं. यह एक आसान काम है और एक स्थायी समाधान भी है.’

उन्होंने कहा, ‘देश को नष्ट करने के बजाए उन्हें वहां चले जाना चाहिए और देश एवं सरकार के खिलाफ अपने संघर्ष को जारी रखना चाहिए.’ बीजेपी सांसद ने दावा किया कि सेंथिल का इस्तीफा कोई छोटी बात नहीं है, बल्कि यह ‘अहंकार में उठाया गया कदम’ है और ‘अशिष्टता’ है क्योंकि उन्होंने बहुमत के आधार पर उठाए गए सरकार के फैसले पर सवाल उठाया है. उन्होंने कहा, ‘सरकार को उनके खिलाफ तत्काल कदम उठाना चाहिए. राज्यपाल के पास अधिकार है और लोग भी ऐसा ही चाहते हैं.’

हेगड़े ने ट्वीट किया, ‘यदि यह व्यक्ति निष्कर्ष निकालता है कि केंद्र सरकार फासीवादी है, तो हमें भी उन्हें एक और ऐसा ‘गद्दार’ कहने की आजादी है जिन्हें भुगतान किया जा रहा है और जो उन्हें असल में भुगतान करने वालों के इशारे पर नाच रहे हैं.’ हेगड़े का जवाब देते हुए सेंथिल ने कहा, ‘वह (हेगड़े) मुझे पाकिस्तान जाने को कह रहे हैं. उनका यह बयान ही उनकी असलियत दर्शाता है. यदि वह मुझे यह प्रश्न पूछ सकते हैं, तो आप समझ सकते हैं कि आम लोगों के साथ कल क्या होगा.’