प्रधानमंत्री आवास में गिरा गर्मी से बेहाल ग्लोसी आइबिस पक्षी, सुरक्षाकर्मियों ने बचाई जान

WSOS ने कहा कि उत्तर भारत के कई हिस्सों में लू चलने के कारण ऐसे मामले आने वाले महीनों में बढ़ सकते हैं. डिहाइड्रेशन, गर्मी की थकावट और छाया की कमी के कारण जानवर खासकर पक्षी बढ़ते तापमान का शिकार हो रहे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आवास में एक युवा ग्लोसी आइबिस (Ibis) पक्षी को बचाया गया, जो भीषण गर्मी में थकावट और डीहाइड्रेशन के कारण यहां गिर गया था. प्लेगैडिस फाल्सीनेलस नामक प्रवासी प्रजाति से ताल्लुक रखने वाला उड़ने में असमर्थ पक्षी प्रधानमंत्री आवास में गिरा हुआ था. शुक्रवार को उसे सुरक्षाकर्मियों ने 7, लोक कल्याण मार्ग स्थित प्रधानमंत्री आवास के रिसेप्शन क्षेत्र के पास से उठाया.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

उसे देखते ही अधिकारियों ने तुरंत वाइल्डलाइफ एसओएस (WSOS) से उनके 24 घंटे चालू रहने वाले हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क किया. WSOS ने एक बयान में कहा कि NGO की पशु एम्बुलेंस की मदद से पक्षी को दो सदस्यीय टीम ने बचाया. WSOS ने कहा, “पक्षी को मुंह से डिहाइड्रेशन लिक्विड दिया गया और वह अभी निगरानी में है.”

WSOS ने कहा कि उत्तर भारत के कई हिस्सों में लू चलने के कारण ऐसे मामले आने वाले महीनों में बढ़ सकते हैं. डिहाइड्रेशन, गर्मी की थकावट और छाया की कमी के कारण जानवर खासकर पक्षी बढ़ते तापमान का शिकार हो रहे हैं. WSOS के सह-संस्थापक और CEO कार्तिक सत्यनारायण ने कहा, “हम उनके सहयोग के लिए और इस आपात स्थिति में वाइल्डलाइफ एसओएस को सचेत करने के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय के कर्मचारियों और सुरक्षा कर्मियों के आभारी हैं.”

उन्होंने आगे कहा, “यह एक जुवेनाइल आइबिस है, क्योंकि इसके शरीर पर नीली भूरी परत होती हैं और इसकी गर्दन और छाती पर सफेद परतें होती हैं.” उन्होंने आगे कहा, “प्रजनन करने वाले वयस्क पक्षी ज्यादातर इंद्रधनुषी हरे और लाल रंग के टोन के साथ गहरे रंग के होते हैं. आइबिस की एक खास घुमावदार, सिकल के आकार की चोंच होती है. इन पक्षियों की लंबाई 45 से 65 सेमी होती है और इनके पंख 80 से 90 सेमी के होते हैं.”

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts