गार्ड्स और सब्जी बेचने वालों को कराना होगा Covid-19 टेस्ट, , ICMR की फ्रंटलाइन वर्कर्स लिस्ट जारी

सिम्पटमेटिक हेल्थ केयर वर्कर्स (Symptomatic Health Care Workers) बहुत शुरुआत से ही टेस्टिंग में शामिल हैं, लेकिन पिछले टेस्टिंग स्ट्रैटजी (Testing Strategy) को रिवाइज करने के बाद अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी इसमें शामिल किया गया है.
ICMR Frontline Workers List For Covid-19 Test, गार्ड्स और सब्जी बेचने वालों को कराना होगा Covid-19 टेस्ट, , ICMR की फ्रंटलाइन वर्कर्स लिस्ट जारी

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) द्वारा चेक प्वाइंट्स पर पुलिस के जवान, बिल्डिंग सिक्योरिटी गार्ड, एयरपोर्ट स्टाफ, बस ड्राइवर और स्टाफ, सब्जी विक्रेताओं और फार्मासिस्ट्स को फ्रंटलाइन वर्कर्स (Frontline Workers) के तौर पर चिह्नित किया गया है. ये वो फ्रंटलाइन वर्कर्स हैं, जिन्हे फ्लू जैसे लक्षण दिखने पर कोविड-19 का टेस्ट (Covid-19 Test) कराने की जरूरत है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, स्वास्थ्य कर्मियों, पैरामेडिक्स और प्रवासियों के अलावा अब इन लोगों का टेस्ट कराना भी जरूरी है.

18 मई को किए गए टेस्टिंग स्ट्रैटजी के रिवीजन अनुसार, सभी सिम्पटमेटिक (ILI Symptoms) हेल्थ केयर वर्कर्स/कोविड-19 के कंटेनमेंट और मिटिगेशन में शामिल फ्रंटलाइन वर्कर्स को नोवल कोरोनवायरस (SARS-CoV2) का टेस्ट कराने की आवश्यकता है. आईएलआई या इन्फ्लूएंजा जैसे लक्षण फ्लू से जुड़े लक्षण हैं, जैसे बुखार, गले में खराश, शरीर में दर्द.

देखिए NewsTop9 टीवी 9 भारतवर्ष पर रोज सुबह शाम 7 बजे

सिम्पटमेटिक हेल्थ केयर वर्कर्स बहुत शुरुआत से ही टेस्टिंग में शामिल हैं, लेकिन पिछले टेस्टिंग स्ट्रैटजी को रिवाइज करने के बाद अन्य फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी इसमें शामिल किया गया है. हालांकि, ICMR द्वारा टेस्टिंग पर सामान्य तरीके से तैयार किए गए एक दस्तावेज़ से पता चलता है कि यह परिभाषा कितनी व्यापक है.

हेल्थ केयर वर्कर्स और पैरामेडिक्स के अलावा जिन्हें टेस्टिंग लिस्ट में शामिल किया गया वो हैं- प्राइवेट और सरकारी दोनों बिल्डिंग्स के सिक्योरिटी गार्ड, चेक प्वाइंट्स पर ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मी, एयरपोर्ट स्टाफ, इवेक्युएशन में शामिल एयर इंडिया की टीम, बस ड्राइवर और साथी स्टाफ, राज्यों में वापसी कर रहे प्रवासी मजदूर, बैंक, फार्मासिस्ट्स और सब्जी विक्रेता. बैंक, फार्मासिस्ट्स और सब्जी विक्रेताओं को इस लिस्ट में इसलिए शामिल किया गया है, क्योंकि ये सभी भीड़भाड के बीच घिरे रहते हैं.

कोरोनावायरस का कहर सबसे ज्यादा शहरों पर टूटा है. शहरों में 70 प्रतिशत करोनावायरस के केस हैं और दस शहरों में मौत की संख्या ज्यादा है. रिपोर्ट के अनुसार, ICMR से जुड़े सूत्रों का कहना है कि ICMR ने उभरते हुए हॉटस्पॉट्स को पहचानने के लिए भी अपनी नजरें बनाई हुई है, ताकी एक नई लिस्ट तैयार हो सके.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

Related Posts