Article 370 पर पीएम मोदी का सवाल, ‘भारी बहुमत के बावजूद 70 सालों तक अस्थायी क्यों?’

प्रधानमंत्री ने कहा कि जो काम 70 सालों में नहीं किया गया उसे हमने 70 दिनों में कर दिखाया.

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के कई प्रावधान हटाने और राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने को लेकर पीएम मोदी ने लालकिले की प्राचीर से अपनी बात कही. उन्होंने कहा कि  ‘‘हम समस्यों को न टालते हैं, न पालते हैं और अब समस्याओं को टालने और पालने का समय नहीं है. ’’

उन्होंने कहा, ‘‘देशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं.’’

प्रधानमंत्री ने 73वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘हम समस्याओं को टालते भी नहीं और पालते भी नहीं हैं. अब न टालने का समय है और न ही पालने का समय है. सरकार बनने के 70 दिनों भीतर संसद के दोनों सदनों ने अनुच्छेद 370 और 35ए को हटाने का निर्णय का अनुमोदन किया.’’

मोदी ने कहा, ‘‘देशवासियों ने जो काम दिया, हम उसे पूरा कर रहे हैं.’’

उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पुनर्गठन को लेकर हर सरकार ने कुछ न कुछ प्रयास किया, लेकिन इच्छा के अनुरूप परिणाम नहीं मिले हैं.

मोदी ने कहा, ‘‘ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सपनों को पंख लगें, यह हम सबकी जिम्मेदारी है.’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘जो लोग अनुच्छेद 370 की वकालत कर रहे हैं उनसे देश पूछ रहा है कि अगर यह इतना महत्वपूर्ण था तो इसे आप लोगों ने स्थायी क्यों नहीं किया, अस्थायी क्यों बनाए रखा ?’’

उन्होंने कहा, ‘‘नयी सरकार को 10 हफ्ते भी नहीं हुए हैं, लेकिन इस छोटे से कार्यकाल में सभी क्षेत्रों में हर प्रयास को बल दिए गए हैं, हम पूरे समर्पण के साथ सेवारत हैं.’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 रद्द किए जाने के बाद देश की जनता गर्व के साथ ‘एक राष्ट्र एक संविधान’ कह सकती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 10 सप्ताह से भी कम समय में अनुच्छेद 370, 35 ए को रद्द कर राजग सरकार ने प्रथम गृह मंत्री सरदार पटेल के सपने को पूरा किया है. उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 ने जम्मू-कश्मीर में विकास को रोक रखा था.

प्रधानमंत्री ने कहा कि जो काम 70 सालों में नहीं किया गया उसे हमने 70 दिनों में कर दिखाया.

पीएम मोदी ने कहा कि राजनीतिक गलियारों में चुनाव के तराजू से तौलने वाले कुछ लोग 370 के पक्ष में कुछ न कुछ कहते रहते हैं. जो लोग 370 के पक्ष में वकालत करते हैं, उनसे देश पूछ रहा है. अगर ये आर्टिकल 370, 35 ए इतना अहम था, उसी से भाग्य बदलने वाला था तो 70 साल तक इतना भारी बहुमत होने पर भी उसे परामनेंट क्यों नहीं किया. अस्थायी क्यों बनाए रखा.. लेकिन आप भी जानते थे जो काम हुआ है वो सही नहीं हुआ है लेकिन सुधार की हिम्मत नहीं थी. मेरे लिए देश का भविष्य ही सबकुछ है, राजनीतिक भविष्य कुछ नहीं होता है. One Nationa, One Constitution का सपना साकार हुआ है.

इससे पहले उन्होंने लाल किले पर ध्वजारोहण किया. प्रधानमंत्री ने देशवासियों को ट्विटर के जरिए स्वतंत्रता दिवस और रक्षा बंधन की शुभकामनाएं भी दी.