नागरिकता संशोधन बिल हुआ मंजूर तो धर्म बदलकर बन जाऊंगा मुसलमान: हर्ष मंदर

मंदर ने एक इंटरव्यू में कहा था, 'बीजेपी की योजना है कि सबसे पहले नागरिकता संशोधन बिल के माध्यम से मुसलमानों को छोड़कर हर अन्य धार्मिक पहचान के लोगों की सुरक्षा के लिए एक मार्ग बनाया जाए और उसके बाद राष्ट्रीय NRC किया जाए.'

पूर्व आईएएस अधिकारी और मानवाधिकार कार्यकर्ता हर्ष मंदर ने मंगलवार को कहा कि अगर संसद ने नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया तो वह आधिकारिक तौर पर खुद को मुस्लिम घोषित कर देंगे. मंदर ने यह भी कहा कि वह नागरिकों के राष्ट्रीय रजिस्टर (NRC) के लिए दस्तावेज जमा करने से भी साफ मना कर देंगे.

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, “मैं आखिर में उसी दंड की मांग करूंगा जो किसी अन्य गैर-दस्तावेजी मुस्लिम डिटेंसन सेंटर और नागरिकता वापस लिए जाने वाले नागरिक को दी जाएगी. इस सविनय अवज्ञा में शामिल हों.” मालूम हो कि सात घंटे की गरमागरम बहस के बाद, लोकसभा ने मध्यरात्रि के समय बिल पास हो गया. बिल के पक्ष में 311 और विरोध में 80 वोट पड़े. अब संभावनाएं हैं कि बिल बुधवार को राज्यसभा में पेश किया जाएगा.

इससे पहले भी एक इंटरव्यू में मंदर ने कहा था कि नागरिकता संशोधन बिल और राष्ट्रीय NRC “विभाजन की यादों और चिंताओं” को पुनर्जीवित कर देंगे. मंदर ने आरोप लगाया कि बीजेपी नागरिकता संशोधन बिल के माध्यम से अन्य समुदायों के लोगों को बचाते हुए केवल मुसलमानों के लिए राष्ट्रीय NRC लागू करेगी.

इंटरव्यू में मंदर ने कहा, ‘बीजेपी की योजना है कि सबसे पहले नागरिकता संशोधन बिल के माध्यम से मुसलमानों को छोड़कर हर अन्य धार्मिक पहचान के लोगों की सुरक्षा के लिए एक मार्ग बनाया जाए और उसके बाद राष्ट्रीय NRC किया जाए.’

ये भी पढ़ें: जम्मू में महिलाओं को मिलेगी पुलिस सुरक्षा, हेल्पलाइन नंबर जारी