IIT के प्रोफेसर का दावा: दिल्ली-NCR पर बड़े भूकंप का खतरा, समय रहते उपाय करे सरकार

NCR कांगड़ा से सिर्फ 370 किलोमीटर जबकि उत्तरकाशी से सिर्फ 260 किलोमीटर दूर है, ये दोनों ही क्षेत्र भूकंप को लेकर बेहद ही गंभीर हैं. इसका मतलब है कि इन क्षेत्रों में बड़े भूकंप की स्थिति में Delhi-NCR सबसे ज्यादा प्रभावित होगा.
IIT Professor P K Khan predicts major earthquake in Delhi NCR, IIT के प्रोफेसर का दावा: दिल्ली-NCR पर बड़े भूकंप का खतरा, समय रहते उपाय करे सरकार

दिल्ली-एनसीआर (Delhi-NCR) में आने वाले दिनों में कोई बड़ा भूकंप देखने को मिल सकता है, IIT (ISM) धनबाद के एप्लाइड और जिओफिजिक्स एंड सिसमोलॉजी विभाग ने ऐसी संभावना जताई है. विभाग के प्रोफेसर पी. के. खान (P K Khan) ने कहा है कि कम मैग्नीट्यूड के छोटे झटके बड़े भूकंप की तरफ इशारा करते हैं. पी. के. खान सिसमोलॉजी डिपार्टमेंटके अध्यक्ष भी हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

उन्होंने कहा है कि अब समय है कि दिल्ली और केंद्र सरकार को भूकंप से बचाव और क्षेत्र में अवेयरनेस फैलाने की जरुरत है. खान ने कहा कि पिछले दो सालों में इस क्षेत्र में 4.0 से 4.9 मैग्नीट्यूड के 64 झटके महसूस किए गए हैं.

क्षेत्र में बढ़ रहा ऊर्जा का तनाव

इसका सीधा सा मतलब है कि इस क्षेत्र में ऊर्जा का तनाव बढ़ रहा है, खासकर दिल्ली और कांगड़ा के क्षेत्र में. पिछले दो महीनों में क्षेत्र में 11 बार भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं, जिसमें 3 जून को नोएडा (Noida)में महसूस किए गए झटके सबसे ताज़ा हैं.

NCR कांगड़ा से सिर्फ 370 किलोमीटर जबकि उत्तरकाशी से सिर्फ 260 किलोमीटर दूर है, ये दोनों ही क्षेत्र भूकंप को लेकर बेहद ही गंभीर हैं. इसका मतलब है कि इन क्षेत्रों में बड़े भूकंप की स्थिति में Delhi-NCR सबसे ज्यादा प्रभावित होगा.

कांगड़ा के नजदीक चंबा और धर्मशाला में 6.3 और 7.8 मैग्नीट्डूड के भूकंप 1945 और 1905 में आ चुके हैं. वहीं हाल ही में गढ़वाल और उत्तरकाशी में छोटे भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं.

देखिये परवाह देश की सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 10 बजे

Related Posts