Coronavirus से 196 डॉक्टरों की मौत, IMA ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखी चिट्ठी

IMA के शेयर किए गए आंकड़ों से पता चला है कि कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से मरने वाले डॉक्टरों में से 87 प्रतिशत की उम्र 50 साल से ज्यादा थी. IMA ने यह भी कहा कि पीड़ितों की सबसे ज्यादा संख्या तमिलनाडु (Tamil Nadu) में दर्ज की गई है.
IMA writes to PM narendra modi, Coronavirus से 196 डॉक्टरों की मौत, IMA ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखी चिट्ठी

कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित होने के बाद डॉक्टरों को उचित बेड और इलाज नहीं मिलने की खबरों से परेशान इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) ने शनिवार को इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को एक पत्र लिखा है. एसोसिएशन ने कहा कि इस तरह की घटनाओं से हेल्थ केयर कम्युनिटी पर गलत असर पड़ेगा, जो कोरोना के खिलाफ लड़ाई में फ्रंटलाइन पर हैं.

देखिये #अड़ी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर शाम 6 बजे

पत्र में लिखा गया है, “डॉक्टरों और उनके परिवारों को अस्पताल में भर्ती कराने के लिए बेड नहीं मिलने और दवाओं की कमी के बारे में कई परेशान कर देने वाली रिपोर्ट्स सामने आई हैं. यह (पत्र) हमारे स्वास्थ्य देखभाल समुदाय के गिरते मनोबल और इस पर पड़ने वाले गलत असर की ओर आपका ध्यान खींचने के लिए है.”

बड़ी संख्या में डॉक्टर्स हो रहे संक्रमित

एसोसिएशन ने डॉक्टरों और उनके परिवारों की उचित देखभाल की मांग की. IMA के महासचिव आर.वी. अशोकन (R.V. Ashokan) ने कहा “हमें इस कोरोना संकट के दौरान डॉक्टरों की सुरक्षा की बढ़ती चिंताओं की वजह से PM मोदी के ध्यान और सहयोग की जरूरत है. कोरोना की वजह से बड़ी संख्या में डॉक्टर पॉजिटिव हो रहे हैं और अपनी जान गंवा रहे हैं.”

जीवन बीमा सुविधाओं को बढ़ाने की मांग

इसके अलावा, एसोसिएशन ने सभी क्षेत्रों में डॉक्टरों के लिए राज्य प्रायोजित चिकित्सा (State Sponsored Medical) और जीवन बीमा सुविधाओं को बढ़ाने की भी मांग की. IMA के अनुसार, जिन 40 प्रतिशत डॉक्टरों ने महामारी के कारण जान गंवाई, वे जनरल प्रैक्टिशनर थे जो प्राइवेट सेक्टर्स में या स्वतंत्र रूप से काम करते थे. इसमें कहा गया कि “यह बताना जरूरी है कि कोरोना सरकारी और प्राइवेट सेक्टर के बीच अंतर नहीं करता है.”

सबसे ज्यादा संख्या तमिलनाडु में

IMA के शेयर किए गए आंकड़ों से पता चला है कि कोरोना की वजह से मरने वाले डॉक्टरों में से 87 प्रतिशत की उम्र 50 साल से ज्यादा थी. IMA ने यह भी कहा कि पीड़ितों की सबसे ज्यादा संख्या तमिलनाडु में दर्ज की गई है, जहां 43 डॉक्टरों की मौत कोरोनोवायरस संक्रमण से हुई, उसके बाद महाराष्ट्र और गुजरात हैं, दोनों राज्यों में 23-23 मौतें हुई हैं.

देखिये फिक्र आपकी सोमवार से शुक्रवार टीवी 9 भारतवर्ष पर हर रात 9 बजे

Related Posts