मानसून की वापसी से पहले देश के कई राज्यों में होगी भारी बारिश, मौसम विभाग ने जताया पूर्वानुमान

मौसम विभाग (IMD) 25 सितंबर के बाद ही पश्चिमी राजस्थान से मानसून (Monsoon) की वापसी की उम्मीद कर रहा है. चार महीने का मानसून 30 सितंबर को खत्म हो जाएगा, और उसके बाद होने वाली बारिश को मानसून की बारिश में नहीं गिना जाएगा.

  • TV9 Hindi
  • Publish Date - 9:30 am, Tue, 22 September 20

मौसम विभाग (IMD) ने मानसून की वापसी की वजह से भारत के कुछ हिस्सों में बारिश दो- तीन दिन देरी से होने का पूर्वानुमान जाहिर किया है. सोमवार को मौसम विभाग (IMD) ने कहा कि उत्तर-पश्चिम भारत के कम-दबाव वाले इलाकों पश्चिमी तट, पूर्व और प्रायद्वीपीय क्षेत्र में तेज और भारी बारिश होने की संभावना है.

मौसम विभाग 25 सितंबर के बाद ही पश्चिमी राजस्थान से मानसून (Monsoon) की वापसी की उम्मीद कर रहा है. चार महीने का मानसून 30 सितंबर को खत्म हो जाएगा, और उसके बाद होने वाली बारिश को मानसून की बारिश में नहीं गिना जाएगा.

इस साल तीन जगहों पर हुई सामान्य बारिश-आईएमडी

इस साल (This Year) मानसून सात प्रतिशत से ज्यादा दर्ज किया गया. हालांकि हर जगह मानसून (Monsoon)  का प्रतिशत अलग-अलग है. दक्षिणी प्रायद्वीप पर 29 प्रतिशत से ज्यादा, मध्य भारत में 14 प्रतिशत से ज्यादा, वहीं पूर्वोत्तर भारत में मानसून 1 प्रतिशत से ज्यादा है, लेकिन उत्तर-पश्चिम भारत में यह 16 प्रतिशत से ज्यादा दर्ज किया गया. इसका मतलब है कि तीन इलाकों में इस साल सामान्य बारिश हुई है, वहीं चौथे इलाके में बारिश सामान्य से ज्याहा रही.

मौसम विभाग (IMD) पश्चिम, पूर्व और उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश के बाद अब देश में कम बारिश का अनुमान जाहिर किया है, इससे उत्तर पश्चिम भारत से मानसून वापसी के लिए अनुकूल परिस्थितियां बन सकती हैं.

‘उत्तर प्रदेश में अच्छी बारिश का अनुमान’

मौसम विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक आरके जेनामनी ने कहा कि कम दबाव प्रणाली पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर से मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) तक बढ़ेगी, और फिर उत्तर प्रदेश की ओर लौटेगी. इस दौरान यूपी में भी अच्छी बारिश की उम्मीद की जा रही है. कम दबाव वाले क्षेत्र बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी और उत्तरी तटीय ओडिशा से सटे है.

मौसम विभाग के निदेशक एम मोहपात्रा ने कहा कि कम दबाव प्रक्रिया पर बारिश कम होने की उम्मीद की जा रही है. अगले सात दिनों में किसी और क्षेत्र में कम दबाव बनने की संभावना नहीं है.

मौसम विभाग (IMD) ने अप्रैल महीने में मानसून की शुरुआत और वापसी की तारीख जारी की थी. उत्तर पश्चिम भारत से मानसून वापसी की शुरुआत की तारीख 17 सितंबर बताई थी, वहीं कहा कि मानसून देश से 15 अक्टूबर को पूरी तरह से चला जाएगा. वहीं अगर पिछले साल की बात की जाए तो, मानसून ने एक सितंबर को भारत (India) में एंट्री की थी और 15 अक्टूबर को वापस चला गया था.