Independence Day: अकेले पीएम मोदी नहीं फहराएंगे तिरंगा, वायुसेना की ये महिला अधिकारी रहेंगी मौजूद

इस बार भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारी पीएम मोदी के साथ मौजूद रहेंगी.

नई दिल्ली: समूचा हिंदुस्तान जश्न ए आजादी के महाउत्सव को जोश के साथ मना रहा है. देश के 73वें स्वतंत्रता दिवस समारोह के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को लाल किले पर झंडा फहराएंगे. पीएम मोदी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से लगातार छठी बार देश को संबोधित करेंगे. लेकिन इस बार पीएम मोदी ध्वजारोहण के दौरान अकेले नहीं होंगे. उनके साथ भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारी भी मौजूद रहेंगी.

इस बार भारतीय वायुसेना की तीन महिला अधिकारी पीएम मोदी के साथ मौजूद रहेंगी. इनमें जहां फ्लाइंग ऑफिसर प्रीतम सांगवान पीएम मोदी को राष्ट्रीय ध्वज फहराने में मदद करेंगी तो वहीं फ्लाइट लेफ्टिनेंट ज्योति यादव और फ्लाइट लेफ्टिनेंट मानसी गेदा पीएम मोदी के दोनों तरफ तैनात रहेंगी.


रक्षा मंत्रालय के हवाले से बताया कि ‘ स्वतंत्रता दिवस समारोह के दौरान वायुसेना की तीन महिला अधिकारी पीएम मोदी का सहयोग करेंगी. जहां फ्लाइंग ऑफिसर प्रीतम सांगवान राष्ट्रीय ध्वज को फहराने में प्रधानमंत्री मोदी की मदद करेंगी, वहीं फ्लाइट लेफ्टिनेंट ज्योति यादव और फ्लाइट लेफ्टिनेंट मानसी गेडा मंच के दोनों तरफ पीएम मोदी के लिए खड़ी रहेंगी और सलामी देंगी.’

ये भी पढ़ें: घुसपैठ कर जम्मू-कश्मीर को दहलाना चाहते थे PAK आतंकी, भारतीय सेना ने ध्वस्त किए नापाक मंसूबे

आज पूरा देश आजादी के जश्न में डूबा हुआ है. लाल किले की प्राचीर से पीएम नरेन्द्र मोदी गुरुवार को लगातार छठी बार स्वतंत्रता दिवस पर भाषण देंगे. मोदी सरकार पार्ट-2 की दमदार वापसी के बाद उनका लाल किले से यह पहला भाषण होगा. मोदी गुरुवार को लाल किले की प्राचीर से स्वतंत्रता दिवस पर भाषण देने के साथ ही अटल बिहारी वाजपेयी की बराबरी कर लेंगे.

आज होने वाले पीएम मोदी के भाषण के लिए लोग अभी से ही सोशल मीडिया में उत्सुक नजर आ रहे हैं. लोग कयास लगा रहे कि पीएम मोदी जम्मू-कश्मीर पर किए गए ऐतिहासिक निर्णय से लेकर अर्थव्यवस्था की स्थिति तक वह विभिन्न मुद्दों पर वह चर्चा करेंगे. मोदी 15 अगस्त पर अपने संबोधन में सरकार की महत्वकांक्षी परियोजनाओं जैसे ‘स्वच्छ भारत’, ‘आयुष्मान भारत’ और भारत के अंतरिक्ष में पहले मानव मिशन जैसी घोषणाएं करते आए हैं. वह अपने संबोधन में उनके नेतृत्व में हो रहे विकास को रेखांकित करने और अपनी सरकार के कामकाज का लेखाजोखा भी पेश करने के लिए करते रहे हैं.